लंदन के क्यू गार्डन (Kew Garden) में हिन्दुओं के धार्मिक पौधों का चित्रण

जौनपुर

 30-03-2019 09:30 AM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

रेव. सी. सेसारी (Rev. C. Cesary) की पुस्तक “ इंडियन गोडस, सेजस एंड सिटी(Indian Gods, Sages and cities) ” में उनके द्वारा की गयी मेरठ यात्रा का चित्रण देखने को मिलता है। पुस्तक सामान्य रूप से उत्तर भारत के 19 वीं सदी के उत्तरार्ध के सामाजिक-धार्मिक परिदृश्य और विशेष रूप से बंगाल और कलकत्ता का एक बेहतरीन चित्रण प्रदान करती है। पुस्तक को चार भागों में विभाजित किया गया है। पुस्तक का पहला भाग जो हिंदू धार्मिक सिद्धांतों की आवश्यक विशेषताओं की चर्चा है, हिंदू पंथियों की रूपरेखा प्रदान करता है और मूर्ति के बारे में हिंदू और साथ ही कैथोलिक (Catholic) विचारों का विश्लेषण करता है। भाग दो ब्रह्म सिद्धांत का एक महत्वपूर्ण मूल्यांकन है। तीसरा भाग कलकत्ता के लेखक द्वारा ऊपरी भारत के माध्यम से बंबई तक एक लंबी यात्रा के दौरान एकत्र किए गए छापों का लगभग एक यात्रा वृत्तांत है। मार्ग पर बसे शहरों और शहरों के बारे में जिज्ञासु तथ्यों और विवरणों से सुशोभित ज्वलंत रेखाचित्र, वाचन को अवशोषित करते हैं। चौथा भाग 19 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध के कलकत्ता के बेहतरीन विवरणों में से एक प्रदान करता है जिसमें शहर के हिंदुओं के दैनिक जीवन शैली पर एक टिप्पणी जोड़ी गई है। पुस्तक में सेसारी द्वारा की गयी मेरठ यात्रा का भी विवरण है:

सेसारी द्वारा किया गया मेरठ का चित्रण कुछ इस प्रकार है: “सेसारी दिल्ली से सुबह-सुबह मेरठ के लिए निकले थे। मेरठ में मौजूद यूरोपीय क्वार्टर काफी शानदार, साफ-सुथरे घर, लंबी चौड़ी सड़के और साथ ही उनके किनारे छोटे-छोटे सुंदर बगीचे भी शामिल थे। साथ ही दिल्ली की भांति ही मेरठ के भी चारों ओर दीवार बनायी हुई थी। वहीं यहां एक सुंदर और विशाल चर्च है, जिसे फादर वर्ल द्वारा एक अलग स्वरूप में बनाया गया था और यह चर्च सुंदर होने के साथ-साथ अच्छी तरह से सुसज्जित है। मेरठ अपनी वार्षिक घुड़दौड़ और स्वीप(Sweep) के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है, जैसे कि अम्बाला अपने डर्बी स्वीप(Derby Sweep) के लिए।

वहीं सुबह सेसारी मेरठ से एक घोड़ागाड़ी से सरधना के लिए निकल गए, जो कि मेरठ के उत्तर-पश्चिम में लगभग 18 मील की दूरी पर है। इस स्थान में रोम के सेंट पीटर चर्च की नकल का एक शानदार चर्च स्थित है। इस चर्च में पांच गलियारे और एक गुंबद है, इस चर्च का निर्माण बेगम सोम्ब्रे द्वारा करवाया गया था। साथ ही चर्च के अंदर कई जिज्ञासा जनक चीजों में चर्च की समाधि स्मारक विशेष उल्लेखनीय है। ऊपर दी गयी तस्वीरें मेरठ के सरधना क्षेत्र में स्थित सेंट पीटर चर्च की हैं। शुद्ध सफेद संगमरमर का यह स्मारक रोम में दो लाख और डेढ़ की लागत से निष्पादित किया गया है। सिराधना में छः घंटे घूमने के बाद ज्यादा ठंड होने के कारण सेसारी, मेरठ वापस चले गए और मेरठ में रात गुजारने के बाद सेसारी अगली सुबह वापस दिल्ली चले गए।

संदर्भ :-
1. https://bit.ly/2NQraYE
2. http://www.mittalbooks.com/products/Indian-Gods%2C-Sages-And-Cities.html
3. पुस्तक सन्दर्भ - Cesary,Rev.C. इंडियन गोडस, सेजस एंड सिटी(Indian Gods, Sages and cities)(1987) Mittal Publication



RECENT POST

  • आखिर क्यों मनाया जाता है, अभियन्ता (इंजीनियर्स) दिवस
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:00 PM


  • जौनपुर में भी हुआ था सत्ता के लिए लोदी राजवंश में संघर्ष
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:00 AM


  • जौनपुर में फव्वारे लगाने से बढ़ सकती है शहर की शोभा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-09-2019 01:32 PM


  • जौनपुर से गुजरने वाली गोमती नदी में भी पायी जाती हैं, शार्क मछली
    मछलियाँ व उभयचर

     12-09-2019 10:30 AM


  • कैमरा ऑब्स्क्योरा के द्वारा बनाया गया था 1802 में अटाला मस्जिद का छायाचित्र ?
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     11-09-2019 04:24 PM


  • मोहर्रम की प्रचलित प्रथा है ततबीर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     10-09-2019 02:15 PM


  • कीटनाशकों और मानव गतिविधियों की चपेट में आ रहे हैं हरियल कबूतर
    पंछीयाँ

     09-09-2019 12:14 PM


  • कौन है, समुद्र में पाया जाना वाला सबसे विशाल जीव
    समुद्री संसाधन

     08-09-2019 11:46 AM


  • जौनपुर के कृषि क्षेत्र में मशीनों के उपयोग से होगा लाभ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     07-09-2019 11:11 AM


  • “कश्फ-उल महजूब” का सूफ़ीवाद और चिश्ती आदेश में महत्वपूर्ण प्रभाव
    ध्वनि 2- भाषायें

     06-09-2019 12:05 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.