जौनपुर की पृष्ठभूमि पर आधारित फिल्म नदिया के पार का रीमेक

जौनपुर

 27-03-2019 09:30 AM
द्रिश्य 2- अभिनय कला

वर्ष 1982 में एक फिल्म आयी 'नदिया के पार', ये फिल्म सचिन पिलगांवकर, इंदर ठाकुर, मिताली और साधना सिंह की मुख्य भूमिकाओं से सजी थी। इस फिल्म का विषयवस्तु उत्तर प्रदेश के जौनपुर पर केंद्रित था और ग्रामीण जीवनशैली पर बनी इस फिल्म का फिल्मांकन कुछ ऐसा किया गया था कि इसने सबका मन मोह लिया। यह फिल्म मूल रूप से एक ग्रामीण प्रेम कहानी पर आधारित थी। बाद में इसे तेलुगु में भी प्रेमालयम नाम से अनुवादित किया गया था। राजश्री प्रोडक्शंस द्वारा निर्मित इस फिल्म की कहानी श्री केशव प्रसाद मिश्र के उपन्यास 'कोहबर की शर्त' के शुरुआती आधे भाग से ली गयी है।

परंतु इस फिल्म को सुखद अंत देने के लिये इसमें उपन्यास से अलग कुछ परिवर्तन किये गये हैं। यह फिल्म न केवल उत्तर प्रदेश, बल्कि पूरे देश में ब्लॉकबस्टर साबित हुई। इस फिल्म के बारे में आप हमारे इस लेख में भी पढ़ सकते है।

इसके बारह साल बाद 1994 में ठीक ऐसी ही एक और ब्लॉकबस्टर फिल्म आई जोकि बहुत बड़ी हिट साबित हुई और जिसमें सलमान खान और माधुरी दीक्षित मुख्य भूमिकाओं में थे, वह फिल्म थी - 'हम आपके हैं कौन'। दरअसल हम आपके हैं कौन पुरानी हिट फिल्म 'नदिया के पार' का रीमेक थी परंतु ये बात बहुत कम लोग जानते है और इन दोनों ही फिल्मों का निर्माण राजश्री प्रोडक्शंस के तहत हुआ था।

दोनों फिल्मों की कहानी बिल्कुल एक जैसी है, भाभी की छोटी बहन से प्यार, फिर भाभी की अचानक मौत, उसके बाद बड़े भाई के पुनर्विवाह का प्रस्ताव और दो प्रेमियों के बीच उलझन। हालांकि नदिया के पार में फिल्म ग्रामीण जीवन शैली पर आधारित थी जिसमें बैलगाड़ी से आना जाना आदि चीज़ें दिखाई गई थीं। तो वहीं हम आपके हैं कौन में ठीक इसके विपरित सूरज बड़जात्या ने शहरी परिवेश पर आधारित फैमिली ड्रामा को फिल्माया। ये फिल्म भी बहुत बड़ी हिट साबित हुई और इसके साथ जूता चुराई की रसम भी पुनः शुरू हो गई। साथ ही साथ इस फिल्म के गाने जैसे दीदी तेरा देवर दीवाना, पहला-पहला प्यार है आदि भी लोगों को खूब भाए जोकि आज भी सभी की जुबान पर चढ़े हुए है।

संदर्भ:
1. https://bit.ly/2HRGhjK
2. https://bit.ly/2FwcQAM
3. https://jaunpur.prarang.in/posts/1890/postname
4. https://www.youtube.com/watch?v=oYFq4WD4oqY



RECENT POST

  • अन्नदाता कहे जाते है नोबेल पुरस्कार विजेता- नॉर्मन अर्नेस्ट बोरलॉग (Norman Ernest Borlaug)
    बागवानी के पौधे (बागान)

     23-05-2019 10:30 AM


  • जौनपुर का एक शानदार वन्य जीव - बारहसिंगा
    स्तनधारी

     22-05-2019 10:30 AM


  • फिजी भेजे गए थे भारत से लाखों गिरमिटिया श्रमिक
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     21-05-2019 10:30 AM


  • संक्षेप में भार‍तीय क्रिकेट का क्रमिक इतिहास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     20-05-2019 10:30 AM


  • सूरीनाम देश का बैथक गण संगीत है भारतीय
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     19-05-2019 10:00 AM


  • अनौपचारिक अर्थव्यवस्था में रोजगार सृजन की कुंजी हो सकती है कृषि
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     18-05-2019 09:30 AM


  • कृषि कैसे भारत के आर्थिक विकास में है सहायक?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-05-2019 10:30 AM


  • भारत में उर्दू साहित्य का भविष्य पतन की ओर हो रहा अग्रसर
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-05-2019 10:30 AM


  • जौनपुर का एक दुर्लभ पक्षी हरगीला
    पंछीयाँ

     15-05-2019 11:00 AM


  • मुस्लिम देश इंडोनेशिया की डाक टिकटों में रामायण की छाप
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-05-2019 11:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.