मुफ्त सेवा देने के बाद भी कैसे रूपए कमाता है गूगल?

जौनपुर

 21-01-2019 02:03 PM
संचार एवं संचार यन्त्र

आजकल लोग यदि कभी कुछ समझ ना आए तो लोग किसी और से राय नहीं बल्कि गूगल से राय लेते हैं। बच्चों से लेकर हर बड़ो तक सभी गूगल उत्पादों का उपयोग करते ही हैं या हो सकता है आपने कभी न कभी गूगल मानचित्र (Google Maps), यूट्यूब (Youtube), जीमेल (Gmail), एंड्रॉइड (Android) या बस गूगल सर्च (Google Search) ही किया हो। आज कल लोग अपनी रोज़ की ज़िंदगी में गूगल को जब चाहे तब मुफ्त में इस्तेमाल कर लेते हैं। गूगल कंपनी अपने उपभोक्ताओं को सेवाएं फ्री में देती है, यानी गूगल पर कुछ भी ढूंढने के लिए आपको पैसे खर्च नहीं करने पड़ते। लेकिन फिर भी दुनिया की सबसे ज्यादा कमाने वाली कंपनियों में से एक है, कैसे?

क्या आप जानते हैं कि गूगल अपने उपभोक्ताओं को फ्री सेवा देने के बावजूद भी करोड़ों कैसे कमा लेती है? जिन सेवाओं को आप मुफ्त समझते हैं, गूगल उन्हीं से कमाई करती है। अन्य कंपनियां अपने विज्ञापनों के लिए गूगल को पैसा देती हैं। विज्ञापन पर हर क्लिक (click) के लिए गूगल चंद रूपयों से लेकर करोड़ों तक वसूल करती है। वर्ष 2017 में गूगल ने कुल 31.91 बिलियन डॉलर कमाए जिसमें से 27.27 बिलियन डॉलर उसने सिर्फ विज्ञापनों के माध्यम से कमाए थे, जोकि कुल आय का लगभग 85.5% हिस्सा है।

गूगल के विज्ञापन व्यवसाय को तीन मुख्य घटकों में विभाजित किया गया है: ऐडवर्ड्स (AdWords), ऐडसेंस (AdSense) और ऐडमोब (AdMob)। ऐडवर्ड्स वह सॉफ्टवेयर है जो यह निर्धारित करता है कि कौन से विज्ञापन गूगल वेबपेज (webpage) में प्रस्तुत किए जाएंगे और ऐडसेंस अन्य वेबसाइटों तक उस विज्ञापन को प्रकाशित करता है। ऐडमोब मोबाइल एप्लिकेशन (mobile application) के लिए है, यह ऐडसेंस की तरह कार्य करता है।

गूगल की मुख्य आय उसके विज्ञापनों के व्यवसाय से आती है, जो उसके उपयोगकर्ताओं से एकत्र किए गए डेटा पर बहुत अधिक निर्भर है। गूगल विज्ञापन को प्रसारित करने के लिये अपने विज्ञापनदाताओं से प्रति क्लिक के हिसाब से शुल्क लेता है। जितने ज्यादा क्लिक विज्ञापन पर किये जाएंगे विज्ञापनदाताओं को उतना ही अधिक शुल्क गूगल को देना पड़ता है। आपने ध्यान दिया होगा कि जब भी आप किसी भी चीज को गूगल पर सर्च करते हैं तो उससे संबंधित एक सूची आपके सामने आ जाती है, जो गुणवत्ता के आधार पर क्रमानुसार व्यवस्थित होती है। अगर खोज किये गए शब्दों से सम्बंधित परिणाम के लिए किसी नें गूगल को पैसे दिए होंगे तो गूगल उनका विज्ञापन सबसे पहले दिखता है। गूगल पे दिखाए गए हर विज्ञापन के ऊपर Ad या Sponsered लिखा हुआ आता है। परंतु जब दो विज्ञापन की गुणवत्ता एक समान होती है तो जो विज्ञापनदाता गूगल को अधिक शुल्क देगा उसका विज्ञापन गूगल की शीर्ष साइटों में पहले दिखाया जाता है। गूगल कई प्रकार से विज्ञापन दिखा सकता है चाहे वह लेख के रूप में हो, छवि हो या कोई वीडियो। विज्ञापनदाता अलग-अलग विज्ञापनों के लिए अलग-अलग कीमतें चुकाते हैं। इस प्रकार गूगल विज्ञापनों से पैसे कमाता है।


गूगल ऐडस कैसे काम करते हैं?

विज्ञापनों को आपके लिए अधिक प्रासंगिक और उपयोगी बनाने के लिए गूगल डेटा का उपयोग करते हैं।
गूगल द्वारा हमारे डेटा का उपयोग करके, उससे संबंधित विज्ञापनों को हमारे पास प्रस्तुत किया जाता है,जिससे उनके द्वारा प्रदान की गई सेवाएं निःशुल्क हो जाती हैं। विज्ञापन दाताओं और अन्य तृतीय पक्षों को हमारी व्यक्तिगत जानकारी दिए बिना हमारी खोजों, स्थानों, वेबसाइटों, ऐप्स, आपके द्वारा देखे गए वीडियो, विज्ञापन और आपकी मूलभूत जानकारी, जैसे आपकी आयु और लिंग का उपयोग करके आपको विज्ञापन प्रस्तुत किए जाते हैं।

उदाहरण के लिए, जब आप यूट्यूब (जहां आप अपने पसंदीदा वीडियो और संगीत का आनंद ले सकते है) पर वीडियो देखते हैं तो वीडियो के शुरू होने से पहले आपको वीडियो पृष्ठ पर या मुखपृष्ठ पर कुछ विज्ञापन दिखाइ दे सकते हैं। ये विज्ञापन डेटा पर आधारित हो सकते हैं जैसे कि आपके द्वारा देखे जाने वाले वीडियो के विषय से संबंधित, आपके द्वारा खोजे जाने वाले ऐप या आपका स्थान। उदाहरण के लिए, यदि आप "घर की साजो सज्जा" से संबंधित वीडियो खोजते या देखते हैं, तो हो सकता है कि उस वीडियो में आपको घर सुधार श्रृंखला के लिए एक विज्ञापन दिख जाये या आप जौनपुर में रहते हैं तो हो सकता है उस वीडियो में जौनपुर के किसी विज्ञापनदाता का विज्ञापन आपको दिख जाए। यदि आप उन विज्ञापन को देखना नहीं चाहते हैं तो आप उन्हे स्किप (Skip) कर सकते है या आप यूट्यूब से विज्ञापन-मुक्त वीडियो का आनंद लेने के लिए सदस्यता ले सकते हैं।

गूगल को विज्ञापनदाताओं द्वारा भुगतान किया जाता है।
विज्ञापन दाता गूगल को दो प्रकार से भुगतान करते हैं, एक विज्ञापन दाता मात्र विज्ञापन दिखाने पर भुगतान करते हैं, जबकि दूसरे विज्ञापन के निष्पादन के आधार पर भुगतान करते हैं।

गूगल द्वारा विज्ञापनदाताओं को उनके कामों के अच्छे परिणामों के बारे में बताया जाता है।
गूगल विज्ञापनदाताओं को उनके विज्ञापनों के प्रदर्शन के बारे में डेटा देते हैं, लेकिन वे आपकी किसी भी व्यक्तिगत जानकारी का खुलासा किए बिना ऐसा करते हैं। आपको विज्ञापन दिखाने की प्रक्रिया में हर बिंदु पर, गूगल आपकी व्यक्तिगत जानकारी को संरक्षित और निजी रखते हैं।

संदर्भ:
1.https://hackernoon.com/how-does-google-earn-money-as-simple-as-that-60c5b399100e
2.https://safety.google/privacy/ads-and-data/



RECENT POST

  • उत्तर प्रदेश सरकार का प्रतीक चिन्ह दो मछली कोरिया‚ जापान और चीन में भी है लोकप्रिय
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     06-12-2021 09:42 AM


  • स्वतंत्रता के बाद भारत छोड़कर जाने वाले ब्रिटिश सैनिकों की झलक पेश करते दुर्लभ वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     05-12-2021 08:40 AM


  • भारत से जुड़ी हुई समुद्री लुटेरों की दास्तान
    समुद्र

     03-12-2021 07:46 PM


  • किसी भी भाषा में मुहावरें आमतौर पर जीवन के वास्तविक तथ्यों को साबित करती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     03-12-2021 10:42 AM


  • नीलगाय की समस्या अब केवल भारतीय किसान की ही नहीं बल्कि उन देशों की भी जिन्होंने इसे आयात किया
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत की तुलना में जर्मनी की वोटिंग प्रक्रिया है बेहद जटिल
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 08:55 AM


  • हिन्दी शब्द चाँपो औपनिवेशिक युग में भारत से ही अंग्रेजी भाषा में Shampoo बना
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:23 AM


  • जौनपुर के शारकी राजवंश के ऐतिहासिक सिक्के
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 08:50 AM


  • भारत ने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता का खिताब छह बार अपने नाम किया, पहली बार 1966 में रीता फारिया ने
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 12:59 PM


  • भारतीय परिवार संरचना के लाभ
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:23 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id