बेहतर करियर का एक अच्‍छा विकल्‍प इवेंट मैनेजमेंट

जौनपुर

 11-01-2019 12:00 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

इवेंट (Event) या समारोह चाहे जो भी हो अद्भुत आकर्षण और भव्‍यता हर कार्यक्रम की मांग होती है, इसमें घर के कार्यक्रम (जन्मदिन, सगाई और शादियां इत्‍यादि) से लेकर विशाल ओलंपिक समारोह तक शामिल हैं। प्रत्‍येक इवेंट को सही तरह से आयोजित करना एक जटिल और रोचक कार्य है। व्‍यवसाय की दृष्टि से देखा जाए तो विश्‍वस्‍तर पर आज इसकी मांग बढ़ती जा रही है। यदि कोई इस कार्य को करने में पारंगत है, तो इसे एक अच्‍छे भविष्‍य विकल्‍प के रूप में ले सकता है।

इस उद्योग में लंबा सफर तय करने के लिए आपके भीतर कुछ विशेष योग्‍यताऐं होना अनिवार्य है, जो कुछ इस प्रकार हैं:

जनसंपर्क: ग्राहकों, उनके एजेंटों (agents) और व्‍यवसायियों तक एक अच्छी पहुंच होनी चाहिए जिनसे आप अपने व्‍यवसाय के संबंध में मिलते रहें।

रचनात्मकता: संकल्‍पना के अंकुर से लेकर उसके अंतिम चरण तक किसी समारोह के प्रबंधन में रचनात्मकता का होना आवश्‍यक है।

व्‍यापार कौशल: अपने ग्राहकों के समारोह को यादगार बनाने हेतु उन्‍हें अपने विचार बेचने की कला आपको एक अच्‍छा अवसर प्रदान कर सकती है।

विश्लेषणात्मक क्षमता: आपके पास सभी प्रकार की समस्याओं को हल करने की क्षमता होनी चाहिए और साथ ही अप्रत्याशित मुद्दों का पूर्वानुमान लगाने की दूरदर्शिता भी होनी चाहिए।

संगठनात्मक कौशल: स्वयं के लिए और पूरी टीम (team) के लिए ध्‍यानपूर्वक कार्ययोजना तैयार करने की कला आपके भीतर होनी चाहिए।

नेटवर्किंग (networking) कौशल: यह उद्योग व्यक्तिगत नेटवर्किंग के बलबूते पर पनपता है तथा आपके पास इसके उपयोग और विस्‍तार की क्षमता होनी चाहिए।

प्रबंधन कौशल: समय, तनाव, अधीनस्थों, ग्राहकों, बजट, जोखिम, परिस्थिति जैसी स्थितियों के प्रबंधन की कुशलता।

स्‍वयं सेवा संगठन में भागीदारी

आप स्‍वयं सेवा संगठन के माध्‍यम से अपने कार्य की शुरूआत कर सकते हैं। उदाहरण के लिए आप किसी स्वास्थ्य सेवा संगठन से जुड़े हैं तो समय समय पर आप जागरूकता अभियान का आयोजन कर सकते हैं या यदि आप शिक्षा क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ के लिए योगदान दे रहे हैं, तो शिक्षण सत्र या सेमिनार का आयोजन करें। एक आयोजक के रूप में योगदान देते समय आपको जो अनुभव प्राप्त होता है, वह आपको इवेंट मैनेजमेंट (event management) के विभिन्न पहलुओं को समझने में मदद करेगा।

डिजिटल अभियानों को जानें
डिजिटलीकरण के इस दौर में व्यवसाय जगत में पैर जमाने के लिए स्‍वयं को डिजिटल मार्केट (digital market) से अवगत करना अत्‍यंत आवश्‍यक है। आपके द्वारा स्‍थानीय और विद्यालयी स्‍तर पर आयोजित किये गये कार्यक्रमों को डिजिटल मीडिया के माध्‍यम से प्रचारित करें। उत्‍सव के फ़ेसबुक पेज के माध्‍यम से आप डिजिटल मार्केटिंग में अपनी शुरूआत कर सकते हैं।

सर्टिफाइड मीटिंग प्लानर्स (सीएमपी) (Certified Meeting Planners (CMP)) प्रमाण पत्र प्राप्त करें:

इंटरनेशनल स्पेशल इवेंट्स सोसाइटी एक सर्टिफाइड स्पेशल इवेंट्स प्लानर (CSEP) योजना प्रदान करता है, जो आपको कुछ नुस्खे सीखने और नियोक्ताओं(recruiters) के साथ अपनी विश्वसनीयता स्थापित करने में मदद कर सकता है। उद्योग के रुझानों से जुड़े रहने और उद्योग के भीतर संपर्क स्थापित करने के लिए मीटिंग प्लानर्स इंटरनेशनल (MPI) के साथ जुड़ना भी सहायक सिद्ध है।

कॉलेज के पाठ्यक्रम

पूरे भारत में इवेंट मैनेजमेंट कॉलेज हैं। नेशनल एकेडमी ऑफ इवेंट मैनेजमेंट एंड डेवलपमेंट (National Academy of Event Management and Development - NAEMD) इवेंट मैनेजमेंट में डिप्लोमा (diploma) प्रदान करता है जहां आप समारोह के विषय में सैद्धांतिक अवधारणाएं सीख सकते हैं। यह आपको उद्योग में अन्य लोगों से संपर्क बनाने के अतिरिक्‍त मैनेजमेंट कंपनियों में इंटर्नशिप (internship) प्राप्त करने में भी मदद करता है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इवेंट मैनेजमेंट (National Institute of Event Management - NIEM), नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन एंड इवेंट (National Institute of Fashion and Events) जबलपुर, मध्य प्रदेश, और इएमडीआई इंस्टीट्यूट ऑफ मीडिया एंड कम्युनिकेशन इवेंट मैनेजमेंट कोर्स कराने वाले कुछ टॉप कॉलेज हैं। कई कॉलेज आपको 40000 से लेकर 1 लाख 25 हजार तक में पोस्ट-ग्रेजुएट डिप्लोमा प्रदान करते हैं।

इवेंट मैनेजमेंट जॉब के लिए आवेदन कैसे करें?

एक संविभाग (Portfolio) बनाएं

एक इवेंट संविभाग बनाएं और अपने काम की तस्वीरों, विवरणिका(brochures) और आपके द्वारा काम किये गये समारोह के निमंत्रण का एक प्रदर्शन करें। अपने अनुभव को प्रस्तुत करने के लिए एक विवरणिका तैयार करें।

सिफारिशों को खोजें
ऑनलाइन इवेंट मैनेजमेंट क्षेत्र के लोगों को खोजें और उनसे जुड़ने की कोशिश करें। इसके अलावा, शीर्ष इवेंट मैनेजमेंट कंपनियों के एचआर (HR) के संपर्क में रहें। विजक्राफ्ट, टेफकोन (TAFCON), सिनेयुग (Cineyug) और परसेप्ट (Percept) इवेंट मैनेजमेंट के क्षेत्र में भारत के कुछ सबसे बड़े नाम हैं।

कॉलेज प्लेसमेंट (College Placement)
अधिकांश इवेंट मैनेजमेंट कॉलेज अच्छी प्लेसमेंट की पेशकश करते हैं और देश विदेश से कुछ बड़े कंपनियों को अपने परिसरों में आमंत्रित करते हैं। चाहे वह हिंदी फिल्म जगत के अवार्ड समारोह हों, शादी हो, व्यापार शो हो या संगीत उत्सव हों, वे सभी क्षेत्रों में इंटर्नशिप और प्लेसमेंट के अवसर प्रदान करते हैं।

इस क्षेत्र के सकारात्‍मक और नकारात्‍मक पहलू

Image - Table

ईवाई-ईईएमए (इवेंट एंड एंटरटेनमेंट मैनेजमेंट एसोसिएशन - Event and Entertainment Management Association) की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में इवेंट्स इंडस्ट्री (event industry) को 2020-21 तक 10,000 करोड़ रुपये का आंकड़ा पार करने की उम्मीद है। उद्योग, जो 2016-17 में 5,631 करोड़ रुपये था, कुल मिलाकर 16% वार्षिक वृद्धि दर से बढ़ रहा है, यहां तक कि भारतीय मीडिया और मनोरंजन (एम एंड ई) उद्योग को भी पीछे छोड़ रहा है, जो 11-13% वार्षिक वृद्धि दर से बढ़ रहा है।

संदर्भ:

1.https://bit.ly/2SLexQg
2.https://bit.ly/2RJvixY
3.https://bit.ly/2HoFQtt



RECENT POST

  • नदिया के पार फिल्म से एक होली का गाना
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     21-03-2019 08:00 AM


  • श्मशान घाट की अनूठी और धार्मिक चिता भस्म होली
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-03-2019 11:07 AM


  • प्राचीन भारत में चमड़ा श्रमिकों और मोची की सामाजिक स्थिति
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-03-2019 07:06 AM


  • 164 साल से सभी को ललचाती है जौनपुर की ये खास इमरती
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     18-03-2019 07:45 AM


  • सूर्य ग्रहण का हैरान करने वाला विडियो
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     17-03-2019 09:00 AM


  • भारत का कुल कोयला भंडार और कितने दिन तक चलेगा?
    खदान

     16-03-2019 09:00 AM


  • आनुवांशिक रूप से संशोधित फ्लेवर सेवर टमाटर का सफर
    डीएनए डीएनए

     15-03-2019 09:00 AM


  • अपने ही सेनापति को अकबर द्वारा देश निकाला क्यों दिया गया
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-03-2019 09:00 AM


  • गर्मी के मौसम में कीट पतंगे ज्यादा क्यों दिखाई देते हैं
    तितलियाँ व कीड़े

     13-03-2019 09:00 AM


  • वैदिक युग में हुआ था जाति प्रथा का प्रारंभ
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     12-03-2019 09:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.