ऑनलाइन पैसा भेजने से पहले जान लें क्या है RTGS, NEFT और IMPS

जौनपुर

 09-01-2019 12:50 PM
संचार एवं संचार यन्त्र

बदलते दौर में सुविधाएं और तकनीक भी लगातार बेहतर होती जा रही हैं। यदि बात किसी को ऑनलाइन पैसे भेजने की हो तो कुछ समय से नेट बैंकिंग का चलन काफी बढ़ गया है। इसके ज़रिये पैसों का ट्रांजेक्शन बड़ी आसानी से किया जाता है। यदि आप नेट बैंकिंग का इस्तेमाल ट्रांजेक्शन में करते हैं तो आप RTGS, NEFT, IMPS के बारे में जानते ही होंगे परंतु क्या आप इन तीनों के मध्य अंतर जानते है? या यदि आपने नेट बैंकिंग का इस्तेमाल अभी करना शुरू किया है तो आपके लिए इन तीनों भुगतान प्रणालियों को जानना बेहद ज़रूरी है।

भारत में इस समय काफी सारी भुगतान प्रणालियाँ चलन में हैं जिनमे मुख्य हैं:
1. राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अंतरण (National Electronic Funds Transfer -NEFT)
2. तत्काल सकल निपटान (Real Time Gross Settlement- 'RTGS')
3. तत्काल भुगतान सेवा (Immediate Payment Service-IMPS)

इन प्रणालियों से फण्ड ट्रांसफर करने के लिए कुछ बुनियादी जानकारी का होना आवश्यक होता है: जिस व्यक्ति को फण्ड ट्रांसफर करना है, उस व्यक्ति का बैंक खाता नंबर, उसका नाम, बैंक की ब्रांच का IFSC का पता होना ज़रूरी होता है।

RTGS, NEFT और IMPS में अंतर क्या है-

NEFT क्या है:
NEFT ऐसी ऑनलाइन फण्ड ट्रांसफर (Transfer) प्रक्रिया है जो डीएनएस (डिफर्ड नेट सेटलमेंट) के आधार पर संचालित होती है। इस सर्विस के ज़रिये आप देश के किसी भी बैंक की किसी भी शाखा से, किसी भी अन्य बैंक में आसानी से पैसे भेज या प्राप्त कर सकते हैं। NEFT के माध्यम से आप सुबह 8 बजे से लेकर शाम के 6:30 बजे तक पैसा ट्रांसफर कर सकते हो। यदि आप शाम 6:30 बजे के बाद पैसा ऑनलाइन ट्रांसफर करते हैं, तो इसे अगले दिन में सुबह 8:00 बजे लाभार्थी के खाते में जमा किया जाएगा, लेकिन आपके खाते से राशि तुरंत काट ली जाएगी और यदि आप छुट्टी वाले दिन पैसा ट्रांसफर करते हो, तो भी आपका पैसा अगले दिन लाभार्थी के खाते में जमा किया जाएगा। ट्रांसफर की जाने वाली राशि की कोई न्यूनतम व अधिकतम सीमा नहीं है।

RTGS क्या है:
RTGS में बड़ी मात्रा में पैसों को तुरंत ऑनलाइन एक खाते से दूसरे खाते में भेजा जाता है। इसका इस्तेमाल बड़े फण्ड ट्रांसफर के लिए किया जाता है तथा इसको लेकर कुछ सीमायें निर्धारित की गयी हैं जैसे एक दिन में कम से कम 2 लाख और ज़्यादा से ज़्यादा 10 लाख रुपये का ही ट्रांसफर किया जा सकता है। बैंकों में आरटीजीएस का इस्तेमाल कार्यदिवस के दिन सुबह 8 से शाम 4 बजे तक किया जा सकता है, दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर क्योंकि इन दिनों बैंक की छुट्टियां होती हैं। RTGS के माध्यम से रुपये का हस्तांतरण बिना किसी देरी के किया जाता है, यह पैसे ट्रांसफर करने का सबसे तेज माध्यम माना जाता है।

IMPS क्या है:
IMPS भले ही अभी मनी ट्रांसफर करने का नया तरीका है लेकिन इसके माध्यम से आप किसी भी समय कहीं से भी, आसानी से और सुरक्षित तरीके से फण्ड ट्रांसफर कर सकते हैं। इसकी खासियत ये है कि इस सेवा का लाभ मोबाइल फ़ोन के माध्यम से भी उठाया जा सकता है और NEFT और RTGS के विपरीत, इस सेवा का उपयोग बैंक की छुट्टियों के समय भी पूरे साल 24x7 किया जा सकता है। आप अपनी नेटबैंकिंग सेवाओं में भी IMPS का उपयोग कर सकते हैं यदि आप खाता संख्या का उपयोग करके स्थानांतरण करना चाहते हैं। यह प्रक्रिया NEFT जैसी ही है। इंटरनेट और ऑनलाइन बैंकिंग सेवा का प्रयोग कर रहे ग्राहक इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। इस प्रक्रिया में फण्ड का ट्रांसफर तत्काल होता है। इसकी सहायता से आप एक दिन में 2 लाख रुपये तक पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं।

निम्नलिखित तालिका RTGS, NEFT और IMPS के तरीकों के बीच बुनियादी अंतर को दर्शाती है:

इन सभी के इस्तेमाल से आप अपने घर, ऑफिस या किसी भी स्थान से फण्ड ट्रांसफर कर सकते है और इसमें समय भी नही लगता। फण्ड ट्रांसफर होते ही आपको सूचना की जानकारी भी मिल जाती है। क्योंकि ये सब पैसे भेजने के इलेक्ट्रॉनिक तरीके है तो आपको खुद किसी को पैसे देने नही जाना पड़ता। ना ही आपको किसी तरह का चेक या डिमांड ड्राफ्ट बनाना पड़ता है।

संदर्भ:
1.https://bit.ly/2RFrAp9
2.https://bit.ly/2GZAk5m



RECENT POST

  • आखिर क्यों मनाया जाता है, अभियन्ता (इंजीनियर्स) दिवस
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:00 PM


  • जौनपुर में भी हुआ था सत्ता के लिए लोदी राजवंश में संघर्ष
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:00 AM


  • जौनपुर में फव्वारे लगाने से बढ़ सकती है शहर की शोभा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-09-2019 01:32 PM


  • जौनपुर से गुजरने वाली गोमती नदी में भी पायी जाती हैं, शार्क मछली
    मछलियाँ व उभयचर

     12-09-2019 10:30 AM


  • कैमरा ऑब्स्क्योरा के द्वारा बनाया गया था 1802 में अटाला मस्जिद का छायाचित्र ?
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     11-09-2019 04:24 PM


  • मोहर्रम की प्रचलित प्रथा है ततबीर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     10-09-2019 02:15 PM


  • कीटनाशकों और मानव गतिविधियों की चपेट में आ रहे हैं हरियल कबूतर
    पंछीयाँ

     09-09-2019 12:14 PM


  • कौन है, समुद्र में पाया जाना वाला सबसे विशाल जीव
    समुद्री संसाधन

     08-09-2019 11:46 AM


  • जौनपुर के कृषि क्षेत्र में मशीनों के उपयोग से होगा लाभ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     07-09-2019 11:11 AM


  • “कश्फ-उल महजूब” का सूफ़ीवाद और चिश्ती आदेश में महत्वपूर्ण प्रभाव
    ध्वनि 2- भाषायें

     06-09-2019 12:05 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.