सोशल मीडिया में बढ़ रहा है फर्जी खबरों का सिलसिला

जौनपुर

 05-01-2019 12:59 PM
संचार एवं संचार यन्त्र

भारत में फर्जी खबरों की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। फेसबुक और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया मंचों का इस्तेमाल कर गलत और झूठी सूचनाओं को आग की तरह फैलाया जा रहा है। नवंबर 2018 की रिपोर्ट के अनुसार भारत में विभिन्न सोशल मीडिया के प्रशंसकों/अनुयायियों की औसत संख्या इस प्रकार है, फेसबुक - 5,515,560; ट्विटर - 1,591,984; यूट्यूब - 1,173,158। वहीं भारत में नवंबर 2018 में उपयोग की जाने वाली सोशल मीडिया में शीर्ष ब्रांड की एक औसत गणना इस प्रकार हैं

उपर्युक्त दिए गये आंकड़ों से अब यह साफ हो जाता है कि सोशल मीडिया का प्रसार काफी तेजी से हो रहा है, और इस बढ़ते प्रसार के साथ फर्जी खबरें भी काफी फैल रही हैं। खबरों के अनुसार, पिछले साल व्हाट्सएप पर प्रसारित अफवाहों के कारण कम से कम 30 भारतीयों की जान जा चुकी है। जिस पर नियंत्रण करने के लिए कई तकनिकों का इस्तेमाल किया जा रहा है। उदाहरण के लिए, जून में, कुछ लोगों ने व्हाट्सएप-आधारित संदेशों के कारण असम में दो लोगों की हत्या कर दी। हाल ही में बीबीसी द्वारा भारत में किए गए शोध में पाया गया है कि देश में राष्ट्रवाद का बढ़ता ज्वार फर्जी खबरों का एक महत्वपूर्ण संचालक है। भारत, केन्या और नाइजीरिया के अस्सी प्रतिभागियों ने बीबीसी को सात दिनों की अवधि के लिए अपने मोबाइल फोन में एक्सेस (Access) दी, जिससे शोधकर्ताओं ने प्रतिभागियों के मीडिया उपभोग के साथ-साथ व्हाट्सएप और फेसबुक के माध्यम उनके द्वारा साझा की जाने वाली जानकारीयों का पता लगाया। भारतीय प्रतिभागियों द्वारा व्हाट्सएप पर साझा किए गए 30% से अधिक संदेश आम सम्स्याओं और अपनी संस्कृति को संरक्षित करने की आवश्यकता के बारे में थे, जिनमें से सभी स्वाभाविक रूप से राष्ट्रवादी थे। जबकि, लगभग 23% वर्तमान ख़बरें और लगभग 40% विभिन्न घोटालों और साजिशों से युक्त थे। अधिकांश प्रतिभागी फर्जी खबरों पर यकीन करने वाले थे, जिनमें कुछ ने ही यह जानने का प्रयास किया कि सांझा की गयी खबर फर्जी है या नहीं।

डिजिटल एम्पावरमेंट फाउंडेशन (डीइफ)(Digital Empowerment Foundation) ने भारत के 14 राज्यों के 1,081 व्यक्तियों से फर्जी सूचना फैलाने में व्हाट्सएप की भूमिका को समझने के लिए डेटा एकत्र किया। जिसमें 14% उत्तरदाताओं ने कहा कि उन्हें व्हाट्सएप पर प्राप्त होने वाली किसी भी चीज पर भरोसा नहीं है। और केवल 8% उत्तरदाताओं ने दावा किया कि उन्होंने व्हाट्सएप पर प्राप्त होने वाली सभी चीजों पर भरोसा किया। वहीं जब उनसे पुछा गया कि क्या वे मानते हैं कि व्हाट्सएप पर वायरल मैसेज हिंसा की घटनाओं को जन्म दे सकते हैं, तो 51.6% लोगों ने सहमति व्यक्त की।

वहीं गूगल (Google) द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, विश्व के मुताबिक भारत में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की दूसरी सबसे बड़ी आबादी है। भारत में हर साल लगभग 4 करोड़ नए उपयोगकर्ता ऑनलाइन आते हैं, जिनकी केवल महानगरीय केंद्रों से नहीं, बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों से भी वृद्धि हो रही है। वहीं दिसंबर 2015 में रिलायंस जियो के लॉन्च के बाद से टियर-2 और टियर-3 शहरों में इंटरनेट की पहुंच कई गुना बढ़ गई है। वहीं भारत में व्हाट्सएप के 20 करोड़ से अधिक मासिक सक्रिय उपयोगकर्ता हैं।

व्हाट्सएप द्वारा फर्जी खबरों के प्रसार को रोकने के लिए रेडियो और अखबारों के बाद अब टेलीविजन (Television) पर विज्ञापन प्रसारित भी करे जा रहें हैं। साथ ही एक नए फीचर (feature) को भी जोड़ा गया है, जिससे सांझा किया गया संदेश फॉरवर्ड किया गया है या स्वयं का है का पता लगाया जा सकता है, फॉरवर्ड किए गये संदेश के ऊपर फॉरवर्ड लिखा आ जाता है। और अब व्हाट्सएप उपयोगकर्ता एक समय में पांच से अधिक लोगों को संदेश सांझा नहीं कर सकते हैं।

भारत में विकसित हुआ शेयरचैट ऐप एक क्षेत्रीय भाषी चैटिंग ऐप है। इस एप के जरिए हम अपनी स्थानीय भाषा में एक दूसरे से अपनी बातें व्यक्त कर सकते हैं। यह ऐप अंग्रेजी सहित 10 भाषाओं में उपलब्ध है।

संदर्भ :-
1. https://bit.ly/2C4eU1a
2. https://thewire.in/media/fake-news-india
3. https://bit.ly/2RFaW60
4. https://www.bbc.com/news/world-asia-india-46341633



RECENT POST

  • नदिया के पार फिल्म से एक होली का गाना
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     21-03-2019 08:00 AM


  • श्मशान घाट की अनूठी और धार्मिक चिता भस्म होली
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-03-2019 11:07 AM


  • प्राचीन भारत में चमड़ा श्रमिकों और मोची की सामाजिक स्थिति
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     19-03-2019 07:06 AM


  • 164 साल से सभी को ललचाती है जौनपुर की ये खास इमरती
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     18-03-2019 07:45 AM


  • सूर्य ग्रहण का हैरान करने वाला विडियो
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     17-03-2019 09:00 AM


  • भारत का कुल कोयला भंडार और कितने दिन तक चलेगा?
    खदान

     16-03-2019 09:00 AM


  • आनुवांशिक रूप से संशोधित फ्लेवर सेवर टमाटर का सफर
    डीएनए डीएनए

     15-03-2019 09:00 AM


  • अपने ही सेनापति को अकबर द्वारा देश निकाला क्यों दिया गया
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-03-2019 09:00 AM


  • गर्मी के मौसम में कीट पतंगे ज्यादा क्यों दिखाई देते हैं
    तितलियाँ व कीड़े

     13-03-2019 09:00 AM


  • वैदिक युग में हुआ था जाति प्रथा का प्रारंभ
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     12-03-2019 09:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.