जौनपुर के झांझरी मस्जिद पर मौजूद हदीस लिखावट

जौनपुर

 01-12-2018 05:54 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

जौनपुर जो ‘शिराज़-ए-हिंद’ के नाम से भी प्रसिद्ध है, वाराणसी (भूतपूर्व बनारस) से 58 कि.मी. दूर उत्तरप्रदेश का एक प्रमुख ऐतिहासिक और धार्मिक शहर है। इस शहर की स्थापना 1360 में दिल्ली के सुल्तान फिरोज़ तुगलक ने अपने चचेरे भाई जौना खान की याद में की थी। इसी कारण इस शहर का नाम जौनपुर रखा गया, जो उनके पूर्वी (शर्क) प्रांत के शासक थे। यह मस्जिद फिरोज शाह के भाई बारबक खान द्वारा बनवाया गया था| किला अब भी यहाँ पर मौजूद है। इसके बाद 1397 के आस-पास मलिक सरवर ने जौनपुर को शर्की साम्राज्य के रूप में स्थापित किया और 1476 तक इन्होंने शासन किया था। आज हम जौनपुर के एक महत्वपूर्ण वास्तुकला के उदहारण झांझरी मस्जिद के विषय में श्री सैय्यद अनवर अब्बास द्वारा लिखे गए एक पेपर के अध्ययन से कुछ रोचक तथ्य जानेंगे।

कहा जाता है कि शर्की शासकों के काल में कला को बहुत महत्व दिया जाता था। उनके कार्यकाल में यहां पर अनेक मकबरों, मस्जिदों और मदरसों का निर्माण किया गया। इसलिये यह शहर मुस्लिम संस्कृति और कलाकृतियों के केन्द्र के रूप में भी जाना जाता है। यहां की अनेक ऐतिहासिक और खूबसूरत इमारतें अपने अतीत की कहानियां खुद बयां करती हैं। ऐसी ही एक इमारत गोमती नदी के किनारे बनी हुई है जिसको ‘झांझरी मस्जिद’ के नाम से जानते हैं। यह मस्जिह‍द पुरानी वास्तुीकला का एक अनोखा नमूना है। इसे इब्राहि‍म शाह शर्की (1401-1040) द्वारा 1408 के आस-पास हज़रत सैद सदर जहान अजमाली के सम्मान में बनवायी गई थी। उसी समय उन्होंने अटाला मस्जिद का निर्माण भी पूरा करवाया था, जिसका निर्माण कार्य 1376 में फिरोज़ शाह तुगलक द्वारा शुरू किया गया था।

झांझरी मस्जिद जौनपुर की विशिष्ट वास्तुकला शैली में बनायी गयी थी जिसमें संरचनाओं के अग्र भागों के बीच में एक बड़ा सा प्रवेश द्वार था। परंतु इसे सि‍कन्दजर लोदी ने शर्की सलतनत पर आक्रमण के दौरान ध्वपस्त करवा दि‍या था। लेकिन फिर भी उसका एक हिस्सा बचा हुआ रह गया और यह हिस्सा आज भी अस्तित्व के रूप में देखा जाता है। लोग इस मस्जिद को झांझरी उसकी नक्काशीदार जालियों या झांजीरी, अर्थात छिद्रित स्क्रीनिंग (Screening) के कारण भी कहते हैं। साथ-ही-साथ में 15वीं शताब्दी के अरबी भाषा की तुघरा शैली में की गयी अलंकरण की सजावटत भी इसमें मौजूद है। घुमाव दार किनारों में तुघरा अक्षरों की ऊंचाई लगभग 30 से.मी. है। आधार की तरफ ये और भी बड़े हैं, जो हस्तालिपिक शिला लेखों की एक क्षैतिज पट्टी है तथा मेहराब के सिरों से मिलती है।

इन घुमावदार किनारों के शिलालेखों में कुरान के सूरा-II के लिखित पद्य हैं और क्षैतिज पट्टी में हदीस (पैग़म्बर मुहम्मद के कथनों, कार्यों और आदतों का वर्णन करने वाले विवरण को हदीस कहते हैं) उद्धरण है, जिसमें ईश्वर के पैग़म्बर ने कहा है, “जो ईश्वर और सिर्फ ईश्वर के सम्मान में एक मस्जिद बनाता है, तथा उसकी पूजा करता है, ईश्वर स्वर्ग में उसके लिए एक महल बनाता है।” वर्तमान में झांझरी मस्जिै‍द भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ए.एस.आई.) की देखभाल में एक संरक्षित ऐतिहासिक स्थल है।

संदर्भ:
1.https://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B9%E0%A4%A6%E0%A5%80%E0%A4%B8
2.https://www.academia.edu/12291208/15th_C_calligraphic_framing_in_Jhanjhiri_Masjid_Jaunpur_U.P._India



RECENT POST

  • क्या स्पर्श प्रभावित कर सकता है हमारी धारणा?
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     22-02-2019 12:43 PM


  • ग्रीष्म लहरें और उनके हानिकारक प्रभाव
    जलवायु व ऋतु

     21-02-2019 11:28 AM


  • उर्दू भाषा का इतिहास
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-02-2019 10:47 AM


  • पतंजलि के अष्‍टांग योग
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     19-02-2019 10:47 AM


  • अटाला मस्जिद के दुर्लभ चित्र
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     18-02-2019 11:47 AM


  • कन्नौज में प्राकृतिक तरीके से कैसे तैयार की जाती है इत्तर
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     17-02-2019 10:00 AM


  • स्‍वयं अध्‍ययन हेतु कैसे बढ़ाई जाए रूचि?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2019 11:20 AM


  • मांसाहारियों को आवश्‍यकता है एंटीबायोटिक दवाओं के प्रति जागरूक होने की
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-02-2019 10:50 AM


  • वेलेंटाइन डे का इतिहास
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     14-02-2019 12:45 PM


  • जौनपुर में एक ऐसा कदम रसूल है, जो अन्य कदम रसूलों से अलग है
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-02-2019 02:38 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.