भारत और कोरिया का सम्बन्ध है 1800 साल से भी पुराना

जौनपुर

 14-11-2018 01:26 PM
छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

भारत की अमूर्त सांस्‍कृतिक विरासत कई साल पुरानी सभ्‍यता से चली आ रही है। भारत ने अधिकांश एशिया के धार्मिक जीवन को गहन रूप से प्रभावित किया है और प्रत्‍यक्ष या परोक्ष रूप से विश्‍व के अन्‍य भागों पर भी अपना प्रभाव छोड़ा है। आज हम आपको ऐसे ही संबंध के बारे में बताएंगे, जिसमें दो देशों के बीच व्यापारिक सम्बन्ध ही नहीं, बल्कि पारिवारिक सम्बन्ध भी देखने को मिलता है।

‘अयोध्या’ जिसे हम भगवान राम की जन्म भूमि के नाम से जानते हैं। परंतु क्या आप जानते हैं कि अयोध्या का कोरिया के शाही खानदान से एक ऐतिहासिक रिश्ता है। और यह सम्बन्ध कोई आज का नहीं बल्कि 2000 साल पुराना है। एक किंवदंती के अनुसार अयोध्या नगरी की राजकुमारी सुरीरत्ना दो हजार साल पहले कोरिया जाकर वहीं बस गईं थी। वहां उन्होंने कोरिया के कारक वंश के राजा सुरो से शादी की और उसके बाद वो कभी वापस अयोध्या नहीं आईं। कोरिया में उन्हें रानी हेओ-ह्वांग-ओक के नाम से जाना जाता है और उनकी मृत्यु 157 साल की उम्र में हो गयी थी। कोरिया के लोगों का मानना है कि सुरीरत्ना ने ही कोरिया में राजघरानों की स्थापना की थी। अयोध्या में सरयू नदी के किनारे, प्राचीन कोरियाई राज्य कारक की महारानी हेओ-ह्वांग-ओक का स्मारक भी बनाया गया है।

कोरिया के पौराणिक दस्तावेज ‘सामगुक युसा’में राजा सुरो और सुरीरत्ना के विवाह की कहानी भी शामिल है, जिसके अनुसार प्राचीन कोरिया में कारक वंश को स्थापित करने वाले राजा सुरो की पत्नी यानी सुरीरत्ना मूल रूप से ‘आयुत’ की राजकुमारी थी। और कुछ नृतत्व शास्त्रियों के अनुसार ‘आयुत’ वास्तव में अयोध्या ही था। कुछ चीन के पौराणिक दस्तावेजों में उल्लिखित कथा के अनुसार अयोध्या की राजकुमारी के पिता के स्वप्न में स्वयं भगवान ने उन्हें राजा किम सुरो से शादी करवाने के लिए अपनी 16 वर्षीय बेटी को समुद्र के रास्ते दक्षिण कोरिया में भेजने का आदेश दिया था।

दरअसल राजकुमारी ने कोरिया की यात्रा नाव से तय की थी और अपनी नाव को संतुलन में रखने के लिए एक जुड़वा मछली का पत्थर लेकर अयोध्या से कोरिया आयी थी। कोरिया में आज भी यह पत्थर है। माना जाता है कि जिसे राजकुमारी अपने साथ लेकर आयी थी यह पत्थर अयोध्या का प्रतीक चिह्न है। और ये चिह्न कोरिया के किमहाए शहर में राजा सुरो के शाही स्मारक पर भी बना हुआ है।

आज की तारीख में इतिहासकारों का कहना है कि कोरिया में कारक वंश के तकरीबन 60 लाख लोग हैं जो स्वयं को राजा सुरो और अयोध्या की राजकुमारी का वंशज बताते हैं। इन लोगों की आबादी दक्षिण कोरिया की कुल आबादी का एक दसवां भाग है।

सिर्फ एक यही ऐतिहासिक कड़ी नहीं है जो कोरिया और भारत के मध्य संबंध को दर्शाती है। यदि आप इतिहासकार डी.पी. सिंघल की "इंडिया एंड वर्ल्ड सिविलाइज़ेशन वॉल्यूम 2” (India And World Civilization Vol. 2) देखें तो आपको कई अन्य ऐतिहासिक लिंक देखने को मिलेंगे जिनमें भारत के कोरिया से प्राचीन संबंधों को दर्शाया गया है। इसमें बताया गया है कि चौथी शताब्दी के उत्तरार्ध में बौद्ध धर्म कोरिया तक पहुंचा था। उस समय कोरिया तीन साम्राज्यों में विभाजित था और इसी समय भारतीय/तिब्बती भिक्षु मारनंदा 384 ईस्वी में पेकचे में आए थे जिन्होंने वहां बौद्ध धर्म का प्रचार प्रसार किया था। पेकचे भी निश्चित रूप से कोगुर्यु और सिल्ला के साथ प्राचीन कोरिया के तीन साम्राज्यों में से एक था। इन तीनों साम्राज्यों में बौद्ध धर्म का इतिहास अलग- अलग है।

मध्य एशिया और चीन में बौद्ध धर्म का एक दृढ़ आधार था, यहीं से पूर्वी एशिया व दक्षिण पूर्व एशिया में बौद्ध धर्म को बहुत बढ़ावा मिला। इतना कि बौद्ध धर्म कोरिया, जापान और मंगोलिया आदि देशों तक पहुँच गया था। माना जाता है कि बौद्ध सिद्धांतों का अध्ययन करने के लिए कई कोरियाई भिक्षु चीन गए थे, और यहां तक कि कुछ भिक्षु भारत भी आये थे। इत्‍सिंग के अनुसार पांच कोरियाई भिक्षुओं ने सातवीं शताब्दी के दौरान भारत का दौरा किया था। एक प्रमुख कोरियाई भिक्षु प्रजनावरमन ने समुद्र द्वारा चीन में फुकियन तक यात्रा की थी और फिर उन्होंने ग्रेट फेथ (Great Faith) के मठ में दस वर्षों तक संस्कृत सीखी और बौद्ध धर्म का अध्ययन किया। उसके बाद वे एक चीनी भिक्षु के साथ में भारत चले गए।

इस प्रकार पौराणिक उल्लेखों में कई बार भारत और अन्य देशों के बीच ऐतिहासिक रिश्ता-नाता देखने को मिलता है। यह संबंध समाजों एवं संस्‍कृतियों के बीच सांस्‍कृतिक एवं सभ्‍यतागत वार्ता को बनाए रखने में मदद करता है और अंतर्राष्‍ट्रीय समुदाय के बीच विकास एवं शांति का सशक्‍त माध्यम भी बन सकता है।

संदर्भ:
1.https://www.bbc.com/news/world-asia-india-46055285?SThisFB&fbclid=IwAR0jxoquAhKQBcv6WlNT-x0tgGbblUYTqVdjyTiEya42URlhUVN_uXixx9Y
2.https://www.speakingtree.in/blog/lord-rams-ayodhya-and-the-korean-royal-family-have-a-connection
3.https://archive.org/details/in.ernet.dli.2015.147645/page/n11



RECENT POST

  • शर्की सल्तनत के समय में जौनपुर और ज़फ़राबाद की शिक्षा प्रणाली और विद्वान
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     22-04-2019 07:39 AM


  • ईस्टर (Easter) के दिन ईश्वर को समर्पित संगीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-04-2019 06:32 PM


  • क्या सच में अकबर द्वारा सुनाई गयी थी जौनपुर के काजी को मौत की सजा?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     20-04-2019 10:00 AM


  • क्यों मनाया जाता है ईसाई त्यौहार ईस्टर (Easter)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:29 AM


  • श्रमण परंपरा: बौद्ध और जैन धर्म में समानताएं और मतभेद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 11:08 AM


  • जौनपुर का काजी और जुम्मन की मनोरंजक लोककथा
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-04-2019 12:27 PM


  • जाने सल्तनत काल में किस प्रकार संगठित की जाती थी जौनपुर सरकार
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     16-04-2019 04:08 PM


  • शास्त्रीय संगीत जगत में ख्‍याल शैली का विकास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:09 PM


  • मुस्लिम समुदाय के बुनियादी मूल्यों को व्यक्त करता त्यौहार, ईद-उल-फित्तर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-04-2019 07:30 AM


  • थाईलैंड में अयुत्या (Ayutthaya) और भारत में अयोध्या
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:15 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.