लुप्तप्राय भारतीय स्टार कछुए और उनकी तस्करी

जौनपुर

 05-10-2018 02:10 PM
रेंगने वाले जीव

यदि धरती पर मौजूद सभी जीव-जन्तुओं, पशुओं, मनुष्यों की बात की जाए तो सबसे ज्यादा उम्र वाले जीवों में से कछुआ एक है। भारत में स्थलीय कछुओं और जलीय कछुओं दोनों की कई जातियाँ पाई जाती हैं। हिंदू धर्म के अनुसार कछुआ रखना बहुत शुभ माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान विष्णु का एक रूप कछुआ था। भगवान विष्णु ने कछुए का रूप धारण कर के समुद्र मंथन के समय मंद्रांचल पर्वत को अपने कवच पर थामा था। परंतु क्या आप जानते हैं कि भारत में कछुओं की कुछ प्रजातियों को घरों में पालना या उनका व्यापार करना गैर-कानूनी है। इंडियन स्टार टोर्टोइज (Indian Star Tortoise) या जियोकेलोन एलिगांस (Geochelone elegans) भी उन सरीसृपों में से एक है जिनका व्यापार करना और घरों में रखना दोनों ही अवैध है।

भारतीय स्टार कछुए की खूबसूरती और इसे पालने से भाग्य बदल जाने की धारणा ही इसकी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भारी मांग की बड़ी वजह है, जबकि ये स्टार कछुए संरक्षित प्रजाति के अंतर्गत आते हैं और इसकी तस्करी गैर-कानूनी है। इन्हें इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंज़र्वेशन ऑफ़ नेचर (IUCN- International Union for Conservation of Nature) की लुप्तप्राय प्रजातियों की लाल सूची में 'अतिसंवेदनशील' के रूप में वर्गीकृत किया गया है। यह प्रजाति वन्य जीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 की अनुसूची IV में भी सूचीबद्ध है और भारत के भीतर या उससे बाहर इस प्रजाति का स्वामित्व और व्यावसायिक रूप से व्यापार करना अवैध है। परंतु फिर भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इनकी तस्करी बड़े पैमाने पर की जा रही है।

भारतीय स्टार कछुए 10 इंच तक बढ़ सकते हैं। ये ज्यादातर शाकाहारी होते हैं और घास, फल, फूल, और पौधों की पत्तियों पर जीवित रहते हैं। इसकी खूबसूरत पीली और काली ढाल पर तारे की आकृति और पिरामिडी उभार होती है। ये लकीर आमतौर पर संकीर्ण और बहुत अधिक होती हैं। यही वजह है कि विदेशों में पालतू जानवर के रूप में उपयोग के लिये बढ़ती अंतर्राष्ट्रीय मांग को पूरा करने के लिये इन प्रजातियों का अवैध व्यापार किया जाता है।

हाल में कछुओं की तस्करी की एक घटना जौनपुर में सामने आई। एक महिला तस्कर को जौनपुर व वाराणसी की संयुक्त टीम ने कैंट रेलवे स्टेशन से 105 कछुओं के साथ पकड़ा। बरामद कछुओं की कीमत लाखों आंकी गई। वर्ष 2017 में दो दिसंबर को शाहगंज रेलवे स्टेशन पर जी.आर.पी. व आर.पी.एफ. के जवानों ने दून एक्सप्रेस से 12 बोरों में 505 कछुए बरामद किये। इसके बाद तीन सितंबर को आर.पी.एफ. शाहगंज ने सियालदह एक्सप्रेस के जनरल बोगी से दो बोरे में रखे 56 कछुओं को बरामद किया। कछुओं को पश्चिम बंगाल में ले जाकर अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बेचा जाना था। जानकारों की मानें तो अंतर्राष्ट्रीय बाजार में एक कछुए की कीमत तकरीबन ₹5000 है, जबकि यहां लोकल एजेंट प्रत्येक कछुए को ₹500 से ₹1000 की दर से उठाते हैं।

12 दिसंबर 2017 में दो पुरुष चेन्नई हवाईअड्डे में चॉकलेट के डब्बे में 210 स्टार कछुओं को ले जाते हुए पकड़े गए थे। वहीं उसी वर्ष अगस्त में 2,500 स्टार कछुए जोकि लगभग 25 लाख रुपये के थे, अवदी (चेन्‍नई) के एक घर से जब्त किए गए थे। इन आंकड़ों को देखकर सरीसृप विशेषज्ञ और व्यापक संरक्षण समुदाय बहुत चिंतित हैं, क्योंकि 2004 के आंकड़ों के अनुसार भी 10,000 से 20,000 कछुओं की पूरी श्रृंखला को अवैध रूप से बाहर ले जाया गया था। भारतीय स्टार कछुओं को गांव के लोगों द्वारा एकत्र किया जाता है, जो उन्हें मध्यस्थों को बेचते हैं। फिर कछुओं को अत्यधिक संगठित, पेशेवर तस्करी करने वालों को बेचा जाता है। जो उन्हें देश से बाहर थाईलैंड, मलेशिया, ताइवान और अन्य वन्यजीव व्यापार केंद्रों में भेज देते हैं। इस प्रकार विदेशों में जाकर स्टार कछुओं की तस्करी कानूनी हो जाती है। उदाहरण के लिए थाईलैंड में अपने देश के कछुओं की रक्षा करना कानूनी है, लेकिन गैर-प्रजातियों के व्यापार के खिलाफ कोई कानून नहीं है।

कानून मज़बूत होने के बाद भी इस संरक्षित प्रजाति की तस्करी पर लागम नहीं लग पा रही है। अब समय है कि हम ही सभी अपनी वन्य जीव संपदा की रक्षा करें और सिर्फ चंद पैसों के लिये अपने देश की धरोहर को ना बेचें। ये हमारी जिम्मेदारी है कि अपने देश के वन्य जीवों की रक्षा हम स्वयं करें।

भारतीय स्टार कछुए भौगोलिक घटना के तीन व्यापक क्षेत्रों में पाए जाते हैं: उत्तर-पश्चिम भारत (गुजरात, राजस्थान) और आसपास के दक्षिण-पूर्वी पाकिस्तान, तमिलनाडु के पूर्वी एवं दक्षिणी भाग, आंध्र प्रदेश तथा पूर्वी कर्नाटक से ओडिशा तथा संपूर्ण श्रीलंका।

संदर्भ:
1.https://en.wikipedia.org/wiki/Indian_star_tortoise
2.https://www.thenewsminute.com/article/210-baby-star-tortoises-rescued-chennai-why-are-they-smuggled-begin-73099
3.https://timesofindia.indiatimes.com/city/chennai/why-smugglers-are-after-star-tortoises/articleshow/60303178.cms
4.https://news.nationalgeographic.com/2015/11/151125-Indian-star-tortoise-smuggling-pet-trade/
5.https://timesofindia.indiatimes.com/life-style/relationships/pets/banned-in-india/articleshow/64691806.cms
6.https://www.jagran.com/uttar-pradesh/jaunpur-woman-turtle-smuggler-arrested-105-turtles-recovered-18486813.html
7.http://www.iucnredlist.org/details/39430/0



RECENT POST

  • प्रमुख पूर्व-कोलंबियाई खंडहरों में से एक है, माचू पिचू
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:28 PM


  • भारत क्या सीख सकता है ऑस्ट्रेलिया की समृद्ध खेल संस्कृति से?
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-07-2021 11:11 AM


  • भारत में भी लोकप्रिय हो रहा है अलौकिक गुणों का पश्चिमी शास्त्रीय बैले (ballet) नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:19 AM


  • दुनिया भर में साम्प्रदायिक एकता की मिसाल पेश करते हैं गुरूद्वारे
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-07-2021 10:44 AM


  • दर्शनशास्त्र के केंद्रीय विषयों में से एक ‘सत्य’ वास्तव में क्या है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-07-2021 09:44 AM


  • पारलौकिक लाभ पाने के लिए प्रिय वस्तुओं को समर्पित करना है बलिदान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-07-2021 10:17 AM


  • अलग प्रभाव है महामारी का वाइट और ब्लू कालर श्रमिकों पर
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-07-2021 06:12 PM


  • सौ साल पुराने बनारस को दर्शाते हैं, 1920 और 1930 के दशक के कुछ दुर्लभ वीडियो
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-07-2021 01:55 PM


  • गुप्त काल अर्थात भारत के स्वर्णिम युग की दुर्लभ विष्णु मूर्तियाँ और छवियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-07-2021 10:15 AM


  • जौनपुर के कुतुबन सुहरावर्दी की प्रसिद्ध रचना मृगावती ने सूफ़ी काव्यों के लिए आधारभूमि तैयार की
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-07-2021 09:48 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id