आखिर कुछ लोगों को ज़्यादा क्‍यों काटते हैं मच्‍छर

जौनपुर

 26-09-2018 03:26 PM
तितलियाँ व कीड़े

"हे भगवान ये मच्‍छर मुझे ही ज़्यादा क्‍यों काटते हैं?"। आपने अक्‍सर लोगों को यह कहते हुए सुना होगा। जिसमें अन्‍य व्‍यक्ति उपहास में उत्‍तर देता है कि आपका खून ज़्यादा मीठा है इसलिए आपको मच्‍छर ज़्यादा काट रहे हैं। पर वास्‍तविकता कुछ और ही है, अध्‍ययन से ज्ञात हुआ है कि लगभग 20% लोगों को मच्‍छर अन्‍य व्‍यक्तियों की अपेक्षा अधिक काटते हैं।

क्‍यों काटते हैं मच्‍छर मनुष्‍यों को:

1. मच्‍छरों में मनुष्‍य की सुगंध को तीव्रता से प्राप्‍त करने वाले एंटीना (Antenna) होते हैं, जो 100 फीट की दूरी तक उन्‍हें पहचान सकते हैं।
2. मादा मच्‍छरों को अंडे की उत्‍पादकता के लिए प्रोटीन की आवश्‍यकता होती है, जिसकी पूर्ति वह मनुष्‍य के रक्‍त से करती हैं। यही कारण है कि केवल मादा मच्‍छर ही मनुष्‍यों को काटती हैं।
3. मलेरिया को फैलाने वाली एनाफिलीस गैंबिये (Anopheles gambiae) को मानव रक्‍त की आवश्‍यकता होती है। तथा अन्‍य प्रजाति के मादा मच्‍छर पक्षी या किसी भी प्रकार के रक्‍त का सेवन कर सकते हैं।

किस प्रकार के व्‍यक्ति को मच्‍छर अधिक काटते हैं:

1.कार्बन डाईऑक्‍साइड (Carbon Dioxide)
कार्बन डाईऑक्‍साइड मच्‍छरों को सबसे ज़्यादा आकर्षित करती है। हम श्वसन क्रिया (Respiration) के दौरान कार्बन डाईऑक्‍साइड के साथ लैक्टिक एसिड (Lactic Acid), ऑक्‍टेनोल (Octenol), यूरिक एसिड (Uric Acid) और फैटी एसिड (Fatty Acid) जैसे रसायनों का भी उत्‍सर्जन करते हैं, जो मच्‍छरों को तीव्रता से उनकी ओर आकर्षित करता है। अतः अधिक मात्रा में कार्बन डाईऑक्‍साइड छोड़ने वाले व्‍यक्तियों को मच्‍छर अधिक काटते हैं। गर्भवती महिलाएं अपने अंतिम महीने में सामान्‍य महिलाओं की अपेक्षा 21% अधिक कार्बन डाई ऑक्‍साइड उत्‍सर्जित करती हैं। जिस कारण इन महिलाओं को मच्‍छर ज़्यादा काटते हैं।

2.रक्‍त के अनुसार
मच्‍छर सर्वाधिक O वर्ग, फिर A वर्ग तथा सबसे कम B वर्ग के खून का सेवन करते हैं।

3.शारीरिक गंध
पसीने में उपस्थित बैक्टीरिया से उत्‍पन्‍न हुयी गंध मच्‍छरों को अपनी ओर आकर्षित करती है, ज़्यादातर एनाफिलीस गैंबिये मच्‍छर को। इत्र की सुगंध भी मच्‍छरों को तीव्रता से अपनी ओर आकर्षित करती है।

4.लैक्टिक अम्‍ल (Lactic Acid)
सामन्‍यतः कसरत और भोजन करते समय हमारे शरीर से लैक्टिक अम्‍ल स्‍त्रावित होता है। जिनके शरीर से यह अधिक मात्रा में स्‍त्रावित होता है उन्‍हें मच्‍छर ज़्यादा काटते हैं।

इनसे बचने के सर्वोत्‍तम उपाय (जो हमारे नियंत्रण में हैं) हैं, स्‍वयं को साफ रखना और अत्‍यधिक सुगंधित पदार्थों के उपयोग से बचना। कीटनाशक दवाइयों (मच्‍छरों को मारने वाली दवाइया) का उपयोग इसमें लाभदायक सिद्ध होता है।

संदर्भ :
1.https://www.mosquitnoband.com/why-do-mosquitoes-like-me-more-than-anyone-else/
2.https://www.terminix.com/blog/education/why-mosquitoes-bite-me-so-much/
3.https://photos.google.com/share/AF1QipP8k3KU0HVZCXnJiMoxziYStKr2D3uduQ4pq5IoMFoUcsOvgpSQMwNfWVXogRY_og?key=TngyeklDLWxkanctcEFvVnNvUUtMbTRKVWc5QWpB



RECENT POST

  • शर्की सल्तनत के समय में जौनपुर और ज़फ़राबाद की शिक्षा प्रणाली और विद्वान
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     22-04-2019 07:39 AM


  • ईस्टर (Easter) के दिन ईश्वर को समर्पित संगीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-04-2019 06:32 PM


  • क्या सच में अकबर द्वारा सुनाई गयी थी जौनपुर के काजी को मौत की सजा?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     20-04-2019 10:00 AM


  • क्यों मनाया जाता है ईसाई त्यौहार ईस्टर (Easter)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:29 AM


  • श्रमण परंपरा: बौद्ध और जैन धर्म में समानताएं और मतभेद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 11:08 AM


  • जौनपुर का काजी और जुम्मन की मनोरंजक लोककथा
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-04-2019 12:27 PM


  • जाने सल्तनत काल में किस प्रकार संगठित की जाती थी जौनपुर सरकार
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     16-04-2019 04:08 PM


  • शास्त्रीय संगीत जगत में ख्‍याल शैली का विकास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:09 PM


  • मुस्लिम समुदाय के बुनियादी मूल्यों को व्यक्त करता त्यौहार, ईद-उल-फित्तर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-04-2019 07:30 AM


  • थाईलैंड में अयुत्या (Ayutthaya) और भारत में अयोध्या
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:15 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.