प्राचीन ग्रंथों द्वारा आयुर्वेद की शिक्षा

जौनपुर

 07-08-2018 02:35 PM
व्यवहारिक

दूसरी सदी ईसा पूर्व के ग्रन्थ चरक सम्हिता में लिखा है कि हमारा जीवन (“आयु”) शरीर, चेतना, मन व आत्मा का मेल (“संयोग”) है; और आयुर्वेद हमारे जीवन का सबसे पवित्र ज्ञान है; इसका न सिर्फ इस जीवन में बल्कि अगले जन्मों में भी कल्याण है।

भारत में पौधों के औषधीय गुणों का ज़िक्र सबसे पहले ऋषि-मुनियों द्वारा हस्त लिखित वेदों में पाया गया है, रिग वेद (3500 – 1800 ईसा पूर्व) से शुरू होकर, खासकर अथर्व वेद। कहा जाता है कि वेदों में जीवन-संबंधी सारा ज्ञान मौजूद है, और वैदिक शिक्षा में आयुर्वेद, वेद से उत्पन्न ‘उपवेद’ है। यद्यपि यह सदियों से मौखिक तौर पर गुरु से शिष्य को सौंपी जाती थी, आयुर्वेद पर कुछ प्रमुख हस्तलिपि बनाये गए थे। इसका एक उदाहरण है ऊपर स्थित चरक सम्हिता, और साथ ही सुश्रुत सम्हिता (रिग वेद के लगभग 1000 वर्ष पूर्व) – प्राचीन काल के दो विशिष्ट वैज्ञानिक व् चिकित्सक द्वारा रचित। सुश्रुत-संहिता में कुल 700 आयुर्वेदिक औषधीयों का वर्णन है, जिनमे से कुछ भारत में नहीं पायी जाती है।

रिग वेद में आयुर्वेदिक औषधीयों (जैसे कि सेमल, पिथ्वन, पलाश, पीपल इत्यादि) का वर्णन है। यजुर वेद में आयुर्वेद की चर्चा शारीरिक अंग एवं ऊतक (“धातु”) को लेकर है। साम वेद, जहां से शाश्त्रीय संगीत का जन्म हुआ है, आयुर्वेद के समग्र स्वरूप को दर्शाते हुए अच्छे स्वास्थ के लिए मंत्र दिए गए हैं।

6वी सदी के ब्रह्मसंहिता  में एक खंड है, वृक्षायुर्वेद, जिसमे औषधीय वृक्षों का न ही वर्णन है परन्तु यह भी विवरण है कि कैसे वृक्ष की देखभाल की जाये, उनका महत्त्व किस-किस प्रकार से है, उनको घर से कितना दूर लगाना बेहतर है, आदि। उसी प्रकार, 1600 ईस्वी के भावप्रकाश में 600 से अधिक औषधीय पौधे का विवरण है।

संदर्भ:
1
.अंग्रेजी पुस्तक: Jain, Dr SK. 1968. Medicinal Plants, National Book Trust
2.अंग्रेजी पुस्तक: Sadhale, Nalini (Trans). 1996. Surapala’s Vrikshayurveda, Asian Agri-History Foundation
3.अंग्रेजी पुस्तक: Frawley, David & Ranade, Subhash. 2004. Ayurveda, Nature's Medicine, Motilal Banarsidass Pub.
4.अंग्रेजी पुस्तक: Frawley, David. 2000. Yoga and Ayurveda: Self-healing and Self-realization, Motilal Banarsidass Pub.
5.http://sdlindia.com/index.php/ancient-ayurvedic-texts?bb=ayurved/ayurved%20history
6.http://www.healthandhealingny.org/tradition_healing/ayurveda-history.html



RECENT POST

  • जौनपुर में शहरी विकास का ग्रामीण विकास पर पड़ता प्रभाव
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-08-2019 02:12 PM


  • कैसे विज्ञापन पसन्द करते हैं जौनपुर के उपभोक्ता
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-08-2019 04:14 PM


  • जौनपुर की प्रसिद्ध मूली – जौनपुरी नेवार
    साग-सब्जियाँ

     20-08-2019 01:24 PM


  • लहसुन के चमत्कारी औषधीय गुण
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-08-2019 02:00 PM


  • कहाँ और कैसे किया जाता है भारतीय मुद्रा का मुद्रण(Printing)
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-08-2019 10:30 AM


  • नदियों का संगम क्या है और त्रिवेणी संगम कैसे खास है?
    नदियाँ

     17-08-2019 01:49 PM


  • विभाजन के बाद भारत पाक के मध्‍य संपत्ति विवाद
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 03:47 PM


  • अगस्त 1942 में गोवालिया टैंक मैदान में लोगों पर इस्तेमाल की गई आंसू गैस की अनदेखी तस्वीरें
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:36 AM


  • विभिन्न क्षेत्रों में भिन्न-भिन्न रूप से मनाया जाता है रक्षाबंधन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-08-2019 02:58 PM


  • जौनपुर में रोजगार सृजन कार्यक्रम का क्रियान्वयन
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-08-2019 12:17 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.