1815 के चित्र में भारतीय दे रहा हेस्टिंग्स को गाली

जौनपुर

 03-07-2018 03:44 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

कई बार कई बातें जब एक भाषा से दूसरी में अनुवादित की जाती हैं तो वे अपना कुछ अर्थ खो बैठती हैं। भारत में अंग्रेजों के सामाजिक जीवन पर हास्य व्यंग्य करती कुछ पहली किताबों में से थी ‘कोई है – अ हुडीब्रान्स्टिक पोएम इन एट कैंटोस’ (Qui Hi - A Hudibranstic Poem in Eight Cantos) जिसमें थॉमस रोलैंडसन द्वारा 1815 में बनाये गये कुछ कार्टून भी शामिल थे। भारत आने वाले शुरूआती अंग्रेजी परिवार 3 प्रेसीडेंसी की राजधानियों में आए और बस गए। इन सभी ने एक दुसरे के नाम भी रखे, जैसे बंगाल प्रेसीडेंसी वालों का नाम ‘कोई है’ (क्योंकि वे अपने भारतीय सेवकों को हिंदी में ‘कोई है?’ की आवाज़ लगाकर पुकारते थे), बॉम्बे प्रेसीडेंसी वालों को ‘डक’ कहा जाता था (क्योंकि वे बम्बई की मछली ‘बोम्बिल डक’ खाया करते थे) और मद्रास प्रेसीडेंसी वालों को ‘मल’ कहा जाता था (क्योंकि उनमें से कई लोग मलमल या रूई के व्यापर में लिप्त थे)। उस समय के कई दिलचस्प कार्टून आज भी उस समय की किताबों और पत्रिकाओं में ज़िन्दा हैं।

ये कार्टून काफी मज़ेदार एवं हास्य पैदा करने वाले हैं। इनमें मौजूद लिखावट अंग्रेज़ी (रोमन लिपि) में है परन्तु हिंदी के वचन (जो कि भारतियों द्वारा बोलते हुए दर्शाए जाते थे) को अंग्रेज़ी में ज्यों का त्यों लिख दिया गया है, उनका अंग्रेज़ी अनुवाद नहीं किया गया। हैरतंगेज़ बात तो यह है कि इन कार्टून को ब्रिटिश म्यूजियम द्वारा बड़े गर्व से अपनी वेबसाइट पर प्रदर्शित किया गया है और इनका अभी तक अंग्रेज़ी अनुवाद नहीं हुआ है। तो लीजिये पेश करते हैं आपके सामने सन 1815 के इस चित्र के पूर्ण वार्तालाप को, जहाँ अंग्रेज़ी को रोमन लिपि में लिखा जाएगा और हिंदी को देवनागरी लिपि में। इसे पढ़कर एक नया ही मतलब समझ आता है जो हम देवनागरी समझने वालों के लिए काफी ज़ाहिर सा है। यह चित्र हिंदी गालियों के सबसे शुरुआती छपे हुए रूप का हिस्सा है।

लॉर्ड हेस्टिंग्स और उनकी बीवी अपने-अपने घोड़े पर सवार एक जंगल से गुज़र रहे थे। तभी उनका सामना एक हिन्दू परिवार से होता है जिसके सदस्य कुछ नारियल के पेड़ों के नीचे बैठ अपने भोजन की तैय्यारी कर रहे होते हैं।

उन्हें देख लेडी हेस्टिंग्स कहती हैं, “My dear Lord! We had better take some other road these poor people are evidently disturbed by our presence we had better turn!” (हमें कोई और रास्ता लेना चाहिए। हमारी मौजूदगी से ये लोग परेशान हो रहे हैं)।

इसके जवाब में लॉर्ड हेस्टिंग्स कहते हैं “No, No. Your Ladyship is really too considerate, let us continue our ride, those wretches are unworthy of our notice, nothing but superstition curse their prejudices. If I allow these liberties I shall soon be as bad here as I was in England!!” (नहीं, हम अपना सफ़र जारी रखेंगे, ये लोग हमारे ध्यान देने योग्य नहीं हैं। यदि मैंने आज अपना रास्ता बदल लिया तो मेरी इज्ज़त यहाँ भी वैसी ही हो जाएगी जैसी इंग्लैंड में है)।

तभी उस भारतीय परिवार का एक सदस्य गुस्से में घड़े पर एक डंडा मारते हुए बोलता है, “बहनचोद सूअर, तेरी माँ....”।

इसके पश्चात दूसरा मर्द कहता है, “इधर रास्ता नहीं—What for Master come here, and spoil all peoples dinner—Master not proper character for Hindoo—All same cast as dog eat everything, all chatty broke rice make spill, not eat dinner, all masters fault—other time Master keep proper distance see old man make too much angry.” (मालिक इधर क्यों आया है, हमारा भोजन ख़राब कर दिया, इनका चरित्र हम हिन्दुओं के लिए सही नहीं है, इन्हें तो धर्म की भी समझ नहीं है, सब एक धर्म के हैं जैसे एक कुत्ता सब कुछ खा लेता है, वैसे हैं ये, सारे बनाये हुए चावल फ़ैल गए, अब कोई भोजन नहीं कर पाएगा, सब मालिक की गलती की वजह से, मालिक को हमसे दूरी बनाये रखनी चाहिए)।

परिवार की एक औरत लॉर्ड और लेडी हेस्टिंग्स की ओर इशारा कर कहती है, “देखो! देखो! जंगली वाला” और एक छोटा बच्चा हेस्टिंग्स की टोपी देख इस औरत के पीछे छिपकर कहता है’ “टोपीवाला”।

परिवार की वृद्ध सदस्या कहती है, “अरे बाप रे! खबरदार”।

बात को और आगे न बढ़ाने के लिए लॉर्ड और लेडी हेस्टिंग्स चुपचाप अपने घोड़े लेकर निकल जाते हैं।

संदर्भ:
1.http://www.britishmuseum.org/research/collection_online/collection_object_details.aspx?assetId=186943001&objectId=1656070&partId=1



RECENT POST

  • शर्की सल्तनत के समय में जौनपुर और ज़फ़राबाद की शिक्षा प्रणाली और विद्वान
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     22-04-2019 07:39 AM


  • ईस्टर (Easter) के दिन ईश्वर को समर्पित संगीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-04-2019 06:32 PM


  • क्या सच में अकबर द्वारा सुनाई गयी थी जौनपुर के काजी को मौत की सजा?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     20-04-2019 10:00 AM


  • क्यों मनाया जाता है ईसाई त्यौहार ईस्टर (Easter)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:29 AM


  • श्रमण परंपरा: बौद्ध और जैन धर्म में समानताएं और मतभेद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 11:08 AM


  • जौनपुर का काजी और जुम्मन की मनोरंजक लोककथा
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-04-2019 12:27 PM


  • जाने सल्तनत काल में किस प्रकार संगठित की जाती थी जौनपुर सरकार
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     16-04-2019 04:08 PM


  • शास्त्रीय संगीत जगत में ख्‍याल शैली का विकास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:09 PM


  • मुस्लिम समुदाय के बुनियादी मूल्यों को व्यक्त करता त्यौहार, ईद-उल-फित्तर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-04-2019 07:30 AM


  • थाईलैंड में अयुत्या (Ayutthaya) और भारत में अयोध्या
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:15 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.