क्या है ये वर्चुअल रियलिटी और क्यों हैं सब इसके दीवाने?

जौनपुर

 29-06-2018 02:34 PM
संचार एवं संचार यन्त्र

जिस प्रकार से पृथ्वी में सतत बदलाव की प्रक्रिया पायी जाती है ठीक उसी प्रकार से तकनीकी में भी कई बदलाव आते रहते हैं। इसी तकनीकी में से प्रदर्शन तकनीकी भी एक है। यदि प्रदर्शन की बात की जाये तो ये पाषाण काल तक जाता है जब मनुष्य गुफाओं में चित्र बनाया करता था। समय के साथ-साथ इस तकनीकी में बदलाव आया और मनुष्य ने टेलीविज़न (Television) पर चल चित्रों को देखना शुरू किया। इस तकनीकी में एक अभूतपूर्व बदलाव तब आया जब सिनेमाघरों से लेकर मोबाइल पर भी चल चित्र देखना अत्यंत सुगम हो गया। मोबाइल में इस तकनीकी के आ जाने से कई अन्य तकनीकों का उदय हुआ जिनसे चलचित्र देखने की परंपरा में कई बदलाव आये।

इन्हीं बदलावों का फल है कि आभासी वास्तविकता जैसी तकनीकियों का जन्म हुआ। इससे पहले 3डी और 4डी तकनीकों का उदय हो चुका था। जैसा कि हम जानते हैं, 3डी तकनीकी में एक चश्मा लगाया जाता है जिसके बाद एक आभासी जीवन हमारे सामने तैयार हो जाता है जहाँ पर हम सभी किरदारों आदि को अपने आँख के सामने वास्तव में चलता फिरता महसूस करते हैं। यह तकनीक सिनेमाघरों से निकलकर हमारे घरों के टेलीविज़न सेटों तक आ पहुँची और बाजार में 3 डी टेलीविज़न की भरमार आ गई। विगत कुछ वर्षों से आभासी वास्तविकता तकनीकी ने दुनिया भर में बड़े पैमाने पर प्रसार किया और इसका ही फल है कि कई राजनैतिक पार्टियों ने भी अपने प्रचार के लिए इस तकनीकी का प्रयोग करना शुरू कर दिया। 2014 के चुनाव में भाजपा ने प्रचार और प्रसार करने के लिए इस तकनीकी का सहारा लिया।

आइये जानते हैं कि आखिर आभासी वास्तविकता या वर्चुअल रियलिटी (Virtual Reality) है क्या? जैसा कि हम जानते हैं कि 3डी तकनीकी को आभासी तकनीकी की संज्ञा दी जाती है। आभासी वास्तविकता वह तकनीकी है जो आपके सामने ऐसी तस्वीर पेश करती है जो कि एकदम ऐसा प्रतीत होती है कि जैसे यह घटना आपके सामने घटित हो रही हो। यह मनुष्य की इन्द्रियों पर ऐसी तस्वीर डालती है जो कि सभी को यह सोचने पर मजबूर कर देती है कि जो भी घटना घटित हो रही है वह हमारे आस-पास ही घटित हो रही है। मनुष्य अपने आपको इस तकनीकी से यह महसूस कराता है कि वह खुद भी दिखाए गए घटनाक्रम का एक हिस्सा है। हम जो कुछ भी वास्तविकता के बारे में जानते हैं वह हमारी इन्द्रियों द्वारा प्रेषित किया जाता है। ऐसे में हम यह कह सकते हैं कि आभासी वास्तविकता भी हमें वही चित्र प्रस्तुत करती है। वर्तमान काल में एक चश्मा भी आ गया है जो कि मोबाइल या अन्य वाई-फाई (Wi-Fi) से चलने वाले यंत्र से जुड़ जाता है और हमें आँख के सामने आभासी प्रतिबिम्ब की संरचना कराके दुनिया की सैर कराता है। आजकल कई खेल भी इस तकनीकी से खेले जाते हैं जिससे मानव यह समझता है कि वह उस खेल का एक हिस्सा है।

संदर्भ:
1.https://www.explainthatstuff.com/virtualreality.html
2.https://www.vrs.org.uk/virtual-reality/what-is-virtual-reality.html
3.https://www.telegraph.co.uk/news/worldnews/asia/india/10803961/Magic-Modi-uses-hologram-to-address-dozens-of-rallies-at-once.html



RECENT POST

  • ईस्टर (Easter) के दिन ईश्वर को समर्पित संगीत
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     20-04-2019 06:32 PM


  • क्या सच में अकबर द्वारा सुनाई गयी थी जौनपुर के काजी को मौत की सजा?
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     20-04-2019 10:00 AM


  • क्यों मनाया जाता है ईसाई त्यौहार ईस्टर (Easter)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:29 AM


  • श्रमण परंपरा: बौद्ध और जैन धर्म में समानताएं और मतभेद
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 11:08 AM


  • जौनपुर का काजी और जुम्मन की मनोरंजक लोककथा
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-04-2019 12:27 PM


  • जाने सल्तनत काल में किस प्रकार संगठित की जाती थी जौनपुर सरकार
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     16-04-2019 04:08 PM


  • शास्त्रीय संगीत जगत में ख्‍याल शैली का विकास
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:09 PM


  • मुस्लिम समुदाय के बुनियादी मूल्यों को व्यक्त करता त्यौहार, ईद-उल-फित्तर
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-04-2019 07:30 AM


  • थाईलैंड में अयुत्या (Ayutthaya) और भारत में अयोध्या
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:15 AM


  • जलियांवाला बाग हत्याकांड का गांधी जी पर प्रभाव
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.