चारों ओर है जल ही जल, पीने को एक बूँद नहीं

जौनपुर

 08-06-2018 12:46 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

वर्तमान काल में स्वच्छ और साफ़ जल एक बड़े मुद्दे के रूप में उभर कर सामने आया है। शहर तो शहर गाँवों में भी साफ़ जल की समस्या सुरसा जैसा मुँह फैलाए बैठी है। शुद्ध जल प्रत्येक मानव व जीव के लिए एक महत्वपूर्ण जरूरत है जो कि शरीर को स्वस्थ और रोग मुक्त रखने का कार्य करता है। आज जौनपुर में स्वच्छ जल की कमी शहर और गाँव दोनों जगह पर देखी जा रही है। पूरे जिले में गर्मियों के शुरू होते ही जल स्तर नीचे चला जाता है और ऐसे में लोग नल के पानी पर आश्रित होते हैं पर बड़ी संख्या में नलों के खराब होने के कारण यहाँ पर लोग दूषित जल पीने को विवश हैं। दूषित जल पीने से लोगों की तबियत पर खासा गहरा प्रभाव पड़ रहा है जो उनके भविष्य के लिए ठीक नहीं है।

अब यदि अखिल भारतीय स्तर पर देखें तो पाते हैं कि भारत में कुल करीब 63.4% लोग स्वच्छ पानी से कोसों दूर हैं। यह आंकड़ा इतना बड़ा है जिसमें ऑस्ट्रेलिया, स्वीडन, श्रीलंका और बुल्गारिया की पूरी जनसँख्या आ जाये। भारत की 67% जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है जिसमें 7% ग्रामीण आबादी स्वच्छ पानी की पहुंच से दूर रहती है। इन ग्रामीण इलाकों में जलवायु परिवर्तनों के प्रभाव के बारे में उतनी अधिक जानकारी नहीं है। भारत भर में 16% ग्रामीण लोग पाइप द्वारा लाये गए पानी का इस्तेमाल करते हैं। जौनपुर में भी पानी कई स्थानों पर पाइप द्वारा ही लाया जाता है। इस आंकड़े से हम यह समझ सकते हैं कि जो इलाके जल की समस्या से जूझ रहे हैं उनकी संख्या कितनी अधिक है।

पूरे 16.78 करोड़ ग्रामीण परिवारों में मात्र 26.9% के पास पाइप के पानी का इन्तज़ाम है। बाकी की बची हुयी जनसँख्या नल, तालाब, नदी और कुएं के पानी का इस्तेमाल करती है। ज़मीन के अन्दर का भी जल धीरे-धीरे दूषित हो रहा है जिसका कारण है उपरी सतह पर होने वाली अत्यंत सोचनीय गन्दगी। भारत में लोगों के पास शौचालयों की भी अत्यंत कमी है और जहाँ है भी वहां पर बड़ी संख्या में लोगों ने सोखता टंकी का इंतज़ाम किया है जिससे भी भूगर्भ जल को खतरा है और जल स्वच्छ नहीं बच पा रहा है। राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के तहत 17 लाख ग्रामीण आवासों में से 13 लाख (77%) बस्तियों को कम से कम 40 लीटर प्रति व्यक्ति प्रति दिन पेयजल प्रदान किए जाने का प्रावधान है। परन्तु संसाधनों की कमी के कारण जनता स्वच्छ जल से दूर है।

1.https://www.patrika.com/jaunpur-news/contaminated-water-supply-in-jaunpur-due-to-negligence-2899710/
2.http://www.indiaspend.com/cover-story/63-million-indians-without-clean-drinking-water-population-of-australiaswedensri-lankabulgaria-13088
3.http://www.indiaspend.com/special-reports/fixing-indias-sanitation-problem-requires-more-than-toilets-55799



RECENT POST

  • ले मोर्ने के तट पर, शानदार भ्रम उत्पन्न करता है मॉरीशस
    पर्वत, चोटी व पठार

     01-08-2021 01:16 PM


  • भार‍तीय फ़ास्ट फ़ूड व् स्‍ट्रीटफूड चाट की बढ़ती लोकप्रियता
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     31-07-2021 09:12 AM


  • अर्थव्यवस्था के उदारीकरण और चल रहे वैश्वीकरण में शहरी विकास प्राधिकरण की महत्वपूर्ण भूमिका
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2021 10:40 AM


  • चंदन की व्यापक खेती द्वारा चंदन की तीव्र मांग को पूरा किया जा सकता है।
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     29-07-2021 09:33 AM


  • कड़े संघर्षों के पश्चात मिलता है गिद्धराज का ताज
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवापंछीयाँ

     28-07-2021 10:18 AM


  • मॉनिटर छिपकली बनी युद्ध में मुगल सम्राट औरंगजेब की पराजय का एक कारण
    रेंगने वाले जीव

     27-07-2021 10:07 AM


  • कैसे हुआ आधुनिक पक्षी का दो पैरों वाले डायनासोर के एक समूह से चमत्कारी कायापलट?
    पंछीयाँ

     26-07-2021 09:40 AM


  • प्रमुख पूर्व-कोलंबियाई खंडहरों में से एक है, माचू पिचू
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:28 PM


  • भारत क्या सीख सकता है ऑस्ट्रेलिया की समृद्ध खेल संस्कृति से?
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-07-2021 11:11 AM


  • भारत में भी लोकप्रिय हो रहा है अलौकिक गुणों का पश्चिमी शास्त्रीय बैले (ballet) नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:19 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id