जौनपुर में चुभती जलती गर्मी

जौनपुर

 07-05-2018 01:59 PM
जलवायु व ऋतु

भारत में सबसे गर्मी भरे दिन का तापमान नापा गया और वह 51 डिग्री सेल्सियस (Degree Celsius) था। 1956 के बाद सबसे गर्म साल यही था, 1956 में तापमान 50.6 डिग्री सेल्सियस नापा गया था। भारत के फलोदी नामक शहर ने गर्म तापमान के राष्ट्रीय अभिलेख को हाल ही में तोड़ा है, इस शहर में तापमान 51 डिग्री सेलसियस नापा गया। उत्तरी भारत में तापमान मई जून के महीने में 40 डिग्री तक पहुँच जाता है लेकिन 50 डिग्री तक पहुंचना काफ़ी असामान्य बात है। मौसम विभाग ने गंभीर ताप की लहर को लेकर हाल ही में लोगों को सावधान किया है। पिछले साल इसी लहर के कारण 100 से अधिक लोगों ने जान गँवाई थी, और उसी वक़्त सरकार द्वारा यह नियम लागू कर दिया गया था कि दिन के वक़्त खाना नहीं पकाया जाए इससे आग लगने का खतरा रहता है। 2015 में गर्म लहर के कारण हज़ार से अधिक लोगों ने जान गंवाई थी। भारत में गर्म लहर तब घोषित कर दी जाती है जब तापमान 45 डिग्री से अधिक पहुँच जाए।

क्या आप रोज़ जौनपुर का तापमान देखते हैं? यदि नहीं तो इस पोस्ट को बंद कर आप प्रारंग के जौनपुर पोर्टल पर रोज़ जौनपुर का तापमान देख सकते हैं। जौनपुर उत्तर प्रदेश के गंगा के मैदानी इलाके में बसा हुआ जिला है, यहाँ गर्मियों में अत्यंत तीव्र गति से लू चलती है जिससे यहाँ पर जीवन अत्यंत कठिन हो जाता है। कई बार यहाँ पर तापमान अत्यधिक ऊपर पहुँच जाता है जिससे कईयों की जान भी चली जाती है। जैसा कि यह जिला मिर्जापुर के समीप स्थित है तो यहाँ पर गर्मी का प्रकोप ज्यादा हो जाता है। मिर्जापुर पथरीला क्षेत्र है जहाँ पर गर्मी का प्रभाव ज्यादा रहता है। यदि जौनपुर के गर्म तापमान का ऐतिहासिक अभिलेख देखा जाये तो निम्नलिखित आंकड़े सामने आते हैं।

जौनपुर में गर्मी का मौसम मार्च महीने से शुरू हो जाता है और तेज़ी से गर्मी का तापमान बढ़ने लगता है, इस महीने में अधिकतम तापमान 41 डिग्री सेल्सियस होता है और न्यूनतम तापमान 26 डिग्री सेलसियस होता है। जून माह में वर्षा ऋतु की शुरुआत से तापमान थोड़ा ठंडा होने लगता है और तापमान अक्टूबर महीने तक घटता है। जनवरी महीना जौनपुर का सबसे ठण्ड वाला महीना होता है और उस दौरान शीत लहर भी चलती है। यह तथ्य दर्शाता है कि यहाँ पर ठंड और गर्मी दोनों का प्रकोप तीव्र है।

जौनपुर के तापमान को निम्नलिखित रूप से नापा जाता है-

महीना : अधिकतम(तापमान) - न्यूनतम(तापमान)

जनवरी : 28.5 - 9.7
फरवरी : 27.8 - 11.8
मार्च : 36.3 - 17.2
अप्रैल : 42.2 - 23.1
मई : 42.6 - 26.8
जून : 38.8 - 27.8
जुलाई : 36.1 - 26.2
अगस्त : 37.9 - 25.9
सितम्बर : 35.1 - 24.8
अक्टूबर : 35.8 - 21.7
नवम्बर : 35.1 - 13.1
दिसम्बर : 27.9 - 8.3

वर्तमान काल में गर्मी का प्रकोप अत्यंत तीव्र है जिस कारण से लोगों को ज्यादा से ज्यादा जल का सेवन करना चाहिए और गर्मी में बाहर निकलने से भी बचना चाहिए क्योंकि लू स्वास्थ के लिए अत्यंत घातक साबित हो सकती है।

1.https://www.theguardian.com/world/2016/may/20/india-records-its-hottest-day-ever-as-temperature-hits-51c-thats-1238f
2.http://shodhganga.inflibnet.ac.in/bitstream/10603/166940/7/07_chapter%202.pdf



RECENT POST

  • खरोष्ठी लिपि का इतिहास
    ध्वनि 2- भाषायें

     14-10-2019 02:43 PM


  • महर्षि वाल्मीकि से जुड़े रोचक तथ्य
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-10-2019 10:00 AM


  • भारत के सबसे लोकप्रिय और मनभावक रेल मार्ग
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     12-10-2019 10:00 AM


  • औषधीय और स्वादिष्ट गुणों से भरपूर कागज़ी नींबू
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     11-10-2019 10:41 AM


  • क्या है विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     10-10-2019 12:35 PM


  • क्या पृथ्वी से बनाई जा सकती हैं अंतरिक्ष तक जाने वाली लिफ्ट (Elevator)?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-10-2019 02:16 PM


  • विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न तरीके से मनाया जाता है दशहरा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     08-10-2019 10:00 AM


  • वायु गुणवत्ता बताने में सहायक है वायु गुणवत्ता सूचकांक
    जलवायु व ऋतु

     07-10-2019 10:48 AM


  • चार सौ साल पुरानी प्रथा है, नवरात्री के अंतिम दिन का सिन्दूर खेला
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     06-10-2019 10:15 AM


  • तकनीक में विकास के चलते बढ़ सकती है आलू की पैदावार
    साग-सब्जियाँ

     05-10-2019 10:12 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.