जौनपुर किले के इस्लामी अभिलेख

जौनपुर

 10-04-2018 12:06 PM
ध्वनि 2- भाषायें

जौनपुर का शाही किला फ़िरोज़ शाह तुगलक द्वारा बनवाया गया था तथा इस किले पर कई राजवंशों ने राज किया जिनमें तुगलक, शर्की और मुग़ल प्रमुख हैं। यह किला अपनी परम पराकाष्ठा पर शर्कियों के शासन में पहुंचा था परन्तु लोधियों द्वारा किये गए आक्रमण और संहार ने इस किले को पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त कर दिया था। यह ऐसा दौर था जब लोधियों के आक्रमण से कोई ही एक धरोहर बची हो, शाही किले से लेकर जामा, अटाला आदि को तोड़ दिया गया था। एक हँसते खेलते शहर जौनपुर की हालत मानो विधवा की सूनी मांग के समान हो चुकी थी। परन्तु कहा जाता है कि बुरे दिन ज्यादा नहीं टिकते और हुआ भी ऐसा, समय बीतने के साथ मुग़ल काल अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँचा।

मुगलों को जौनपुर की महत्ता का आभास हुआ और उन्होंने इस शहर को फिर से आबाद करना शुरू किया। यहाँ पर उपस्थित तमाम इमारतों का दुरुस्तीकरण शुरू हुआ और यहाँ का मशहूर शाही पुल (अकबरी पुल) इसी दौर में बना। शाही किले के सामने ही अकबर के आदेश पर मुनीम खान ने एक विशाल दरवाजे का निर्माण करवाया जिस पर लाजवर्द जैसे पत्थरों से नक्काशी करायी गयी। वर्तमान में इसी दरवाजे से किले में प्रवेश किया जाता है। जौनपुर में इस्लामी काल के अभिलेख पाए जाते हैं जिन पर कई सारी जानकारियां उकेरी गयी हैं।

ये सभी अभिलेख अरबी और फारसी भाषा में हैं। किले के प्रमुख द्वार पर मुनीम खान ने एक स्तम्भ का निर्माण करवाया था (यह अभिलेख 17 पंक्तियों का है) जिसपर लिखे अभिलेख से यहाँ पर धार्मिक सम्मान का प्रमाण मिलता है। इसपर उत्कीर्ण लेख के अनुसार मुनीम खान हिन्दू और मुस्लिम कोतवालों को किले में प्रवेश की इजाजत देता है तथा राज्य के प्रति समभाव रखने को प्रेरित भी करता है। यह स्तम्भ धार्मिक कट्टरता से ऊपर उठकर राष्ट्र को उत्तम बताता है।

1- जौनपुर का गौरवशालि इतिहास, डॉ सत्य नारायण दुबे ‘शरतेन्दु’



RECENT POST

  • मुहम्मद पैगंबर के जन्मदिन मौलिद के पाठ और कविताएँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-10-2021 11:35 AM


  • पूरी तरह से मांसाहारी जीव है, टार्सियर
    शारीरिक

     17-10-2021 12:06 PM


  • परमाणु ईंधन के रूप में थोरियम का बढ़ता महत्व और यह यूरेनियम से बेहतर क्यों है
    खनिज

     16-10-2021 05:32 PM


  • भारत-फारसी प्रभाव के एक लोकप्रिय व्यंजन “निहारी” की उत्पत्ति और सांस्‍कृतिक महत्व
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-10-2021 05:16 PM


  • दशहरे का संदेश और मैसूर में त्यौहार की रौनक
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-10-2021 06:06 PM


  • संपूर्ण धरती में जानवरों और पौधों के आवास विखंडन से प्रभावित हो रही है जैविक विविधता
    निवास स्थान

     13-10-2021 06:00 PM


  • पक्षी जैसे आकार वाले फूलों के कारण विशेष रूप से जाना जाता है ग्रीन बर्ड फ्लावर
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     12-10-2021 05:34 PM


  • ऊर्जा आपूर्ति के एक ही विकल्प पर निर्भर होने से देश व्यापक बिजली संकट के मुहाने पर खड़ा है
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     11-10-2021 02:25 PM


  • पृथ्वी पर नरक की छवि को उजागर करता है,जियोवानी बतिस्ता पिरानेसी का डिजाइन
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     10-10-2021 01:13 AM


  • हर देश की अर्थव्यवस्था को मिलती है क्रेडिट रेटिंग और क्यों है इसका इतना महत्व
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     09-10-2021 05:29 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id